ताज़ा खबर
 

दिल्ली: तस्करों के चंगुल से बचाई गर्इं तीन लड़कियां

पुलिस ने जाल बिछाकर मेन सागरपुर के गली नंबर-दो से तीनों लड़कियों को सकुशल बरामद कर चारों तस्करों को गिरफ्तार किया है।
Author नई दिल्ली | October 4, 2016 04:41 am
नोट।

अपराध शाखा ने मानव तस्करी के एक बड़े गिरोह का भंडाफोड़ किया है। इस गिरोह के चंगुल से तीन लड़कियों को छुड़ा लिया गया है। पुलिस ने चार तस्करों को गिरफ्तार कर लिया है। जिनके तार विदेशों से जुड़े होने की बात कही जा रही है। गिरफ्तार तस्कर की पहचान जान खादका, पूर्णिमा, नीरा और हरीश उर्फ फौजी के रूप में हुई है। ये लोग नेपाल से दिल्ली लड़कियों को लाकर उसे विदेश भेजते थे। इनके पास से एक लैपटाप, दस पासपोर्ट भी बरामद किए गए हैं।

शाखा के संयुक्त आयुक्त रवींद्र यादव के मुताबिक एक अक्तूबर को नेपाल की एक गैर सरकारी संस्था आॅल इंडिया नेपाली यूनिटी फोरम के सदस्य राम खादका ने शिकायत की थी कि वहां से तीन लड़कियों को विदेश भेजने वाले तस्कर ले भागे हैं। पुलिस ने जांच शुरू की तो काठमांडू के एक तीरथ राज नामक व्यक्ति की संलिप्तता मिली। तीरथ युवा लड़के-लड़कियों को स्वीटजरलैंड भेजने के नाम पर नेपाल से लाता था। इसके बाद इनका सौदा आठ से दस लाख रुपए में तकरता था। पुलिस ने जाल बिछाकर मेन सागरपुर के गली नंबर-दो से तीनों लड़कियों को सकुशल बरामद कर चारों तस्करों को गिरफ्तार कर लिया।

जाली रुपए चलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़

दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने जाली रुपए चलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़ करते हुए दो सदस्यों को गिरफ्तार किया है। उनके पास से तीन लाख रुपए की नकली करंसी बरामद करने का दावा किया है। बताया जाता है कि यह नकली मुद्रा बांग्लादेश के जरिए पाकिस्तान से भारत आते हैं। पुलिस ने इनके पास से तीन मोबाइल फोन बरामद किया है। जानकारी के अनुसार दिल्ली के अलावा, बिहार, पश्चिम बंगाल और उत्तर प्रदेश में यह गिरोह सक्रिय था।

सेल के उपायुक्त संजीव यादव के मुताबिक गिरफ्तार व्यक्तियों की पहचान नीतू उर्फ राधा और सलीम शेख के रूप में हुई है। ये दोनों हजार के नकली नोट बाजार में चलाकर लोगों को चूना लगाते थे। दो अक्तूबर को सब-इंसपेक्टर संदीप को इस गिरोह के बारे में जानकारी मिली। उसे पता चला कि नीतू सीमापुरी डीटीसी बस डिपो पर बड़ी मात्रा में नकली करंसी लेकर आने वाली है। सूचना पर तत्काल प्रभाव से स्पेशल टीम बनाकर एक लाख रुपए के नकली करंसी के साथ नीतू को दबोच लिया। उसने सलीम के बारे में जानकारी दी तो उसे भी एक लाख रुपए के साथ पकड़ लिया गया। बाद में इन लोगों के बताए ठिकाने से एक लाख रुपए का जाली बरामद हुआ। पूछताछ में पता चला कि आम तौर पर बाजार में वे इस प्रकार के नकली नोट का व्यवहार करते थे। इस गिरोह में अन्य कई लोग शामिल हैं जिसकी पुलिस तलाश कर रही है।

चश्मा वापस मांगने पर की दोस्त की हत्या

कापसहेड़ा इलाके में चश्मा वापस मांगने पर एक दोस्त ने दूसरे दोस्त की चाकू से गोदकर हत्या कर दी है। पुलिस ने रविवार देर रात आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। दोनों के बीच तीन दिन पहले भी किसी बात को लेकर झगड़ा हुआ था। पुलिस हत्या का मामला दर्ज कर जांच कर रही है। पुलिस के मुताबिक, मृतक की पहचान 19 साल के रूपक और आरोपी की पहचान 27 साल के लोकेश के रूप में हुई है। रूपक सपरिवार यादव चौपाल इलाके में रहता था। वह एक एनजीओ में काम करता था। रविवार दोपहर रूपक नाई की दुकान में बाल कटवाने गया और अपना चश्मा उतारकर रख दिया। कुछ देर बाद कापसहेड़ा निवासी लोकेश वहां पहुंचा और उसने रूपक का चश्मा पहन लिया। रूपक ने उसे चश्मा वापस करने के लिए कहा, लेकिन लो

केश उसकी बात को अनसुना कर दुकान से बाहर निकल गया। इस बात पर दोनों के बीच कहासुनी हो गई। दोनों दुकान के बाहर झगड़ा करने लगे।
इसी दौरान लोकेश ने जेब से चाकू निकालकर रूपक पर वार करना शुरू कर दिया। पेट और छाती पर कई वार होने से रूपक बेहोश होकर नीचे गिर गया। लोकेश अपने एक दोस्त अनुराग की बाइक पर बैठकर फरार हो गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने रूपक को इलाज के लिए अस्पताल में भर्र्ती कराया जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। कापसहेड़ा थाना पुलिस ने नाई के बयान पर हत्या का मामला दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 4, 2016 4:41 am

  1. No Comments.
सबरंग