ताज़ा खबर
 

जेएनयू प्रशासन पर विद्यार्थियों ने लगाया परेशान करने का आरोप

प्रशासन का कहना है कि जब तक विद्यार्थी उन पर लगे जुर्माने का भुगतान नहीं करते हैं तब तक उनका पंजीकरण नहीं हो सकता है और यही नियम भी है।
Author नई दिल्ली | July 18, 2017 02:45 am
विरोध प्रदर्शन करते हुए जेेएनयू के छात्र (Source: File/Agencies)

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के विद्यार्थियों ने विश्वविद्यालय प्रशासन पर परेशान करने और अगले सत्र के लिए उनका पंजीकरण रोकने का आरोप लगाया है। इन विद्यार्थियों में कुछ जेएनयू छात्र संघ के पदाधिकारी भी हैं। वहीं प्रशासन का कहना है कि जब तक विद्यार्थी उन पर लगे जुर्माने का भुगतान नहीं करते हैं तब तक उनका पंजीकरण नहीं हो सकता है और यही नियम भी है।  छात्र संघ की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि जेएनयू प्रशासन ने कई विद्यार्थियों का पंजीकरण रोक दिया है जिसमें छात्र संघ के पदाधिकारी भी शामिल हैं। इन पदाधिकारियों पर कई मामलों में झूठी जांच कराई जा रही है। एक मामले में तो पदाधिकारियों को 20 हजार रुपए तक का जुर्माना और छात्रावास बदलने की सजा दी गई है।

छात्र संघ का कहना है कि हम सजा को चुनौती देने के लिए लोकतांत्रिक तरीका खोज रहे हैं, लेकिन प्रशासन ने हमारा पंजीकरण भी रोक दिया है। प्रॉक्टोरियल नियमों में कहीं भी यह नहीं लिखा है कि प्रशासन छात्रों का पंजीकरण रोक सकता है। छात्र संघ ने कहा कि इससे छात्रों की पढ़ाई का नुकसान हो रहा है। जेएनयू रजिस्ट्रार प्रमोद कुमार ने बताया कि जिन विद्यार्थियों ने अभी तक जुर्माने की राशि का भुगतान नहीं किया है, सिर्फ उन्हीं का पंजीकरण रोका गया है। ऐसा ही विश्वविद्यालय का नियम भी है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.