ताज़ा खबर
 

Coal scam: CBI अपने ही पूर्व निदेशक रंजीत सिन्हा की करेगी जांच, आरोपों को लेकर बनाया गया विशेष जांच दल

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्रीय जांच ब्यूरो के पूर्व निदेशक रंजीत सिन्हा के खिलाफ कोयला घोटाले की जांच को प्रभावित करने के प्रयासों के बारे में पहली नजर के आरोपों की जांच के लिए सोमवार को विशेष जांच दल गठित कर दिया।
Author नई दिल्ली | January 24, 2017 00:40 am
केंद्रीय जांच ब्यूरो के पूर्व निदेशक रंजीत सिन्हा

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्रीय जांच ब्यूरो के पूर्व निदेशक रंजीत सिन्हा के खिलाफ कोयला घोटाले की जांच को प्रभावित करने के प्रयासों के बारे में पहली नजर के आरोपों की जांच के लिए सोमवार को विशेष जांच दल गठित कर दिया। इस जांच दल का नेतृत्व जांच ब्यूरो के निदेशक करेंगे। न्यायमूर्ति मदन बी लोकूर, न्यायमूर्ति कुरियन जोसेफ और न्यायमूर्ति एके सिकरी के पीठ ने कहा कि ब्यूरो के निदेशक जांच कार्य के लिए शीर्ष अदालत को सूचित करके अपनी पसंद के दो अधिकारियों की मदद ले सकते हैं। पीठ ने कहा कि सीबीआइ के पूर्व विशेष निदेशक एमएल शर्मा की अध्यक्षता वाली समिति ने पहली नजर में यह पाया है कि सिन्हा ने कोयला घोटाले की जांच को कथित रूप से प्रभावित करने का प्रयास किया था।

पीठ ने कहा-चूंकि जांच ब्यूरो में अब बदलाव हो चुका है, हम जांच ब्यूरो पर अपना विश्वास बनाए रखेंगे। अदालत ने साथ ही यह भी स्पष्ट किया कि उसने पहले से लंबित याचिका या एमएल शर्मा समिति की रिपोर्ट पर कोई राय व्यक्त नहीं की है। अदालत ने कहा कि कोयला घोटाला मामलों में विशेष लोक अभियोजक वरिष्ठ वकील आरए चीमा इस मामले में अपने दल के साथ के कानूनी पहलुओं पर सीबीआइ निदेशक की मदद करेंगे। पीठ ने जांच ब्यूरो के निदेशक से कहा कि वे इस मामले की सुनवाई की अगली तारीख पर अपने दल के स्वरूप के साथ इस जांच को पूरा करने के लिए लगने वाले समय की जानकारी न्यायालय को दें। शीर्ष अदालत ने गत वर्ष 12 जुलाई को रंजीत सिन्हा के खिलाफ आरोपों की जांच के लिए दायर याचिका पर सुनवाई पूरी की थी। इससे पहले, अटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने अदालत को सूचित किया था कि सीबीआइ के पूर्व विशेष निदेशक एमएल शर्मा की अध्यक्षता वाली समिति ने कहा है कि सिन्हा ने इस घोटाले के प्रभावशाली आरोपियों से मुलाकात की थी। पहली नजर में संकेत मिलता है कि जांच को प्रभावित करने का प्रयास किया गया था। रोहतगी को समिति की प्रारंभिक रिपोर्ट गोपनीयता बनाए रखने की शर्त पर अवलोकन के लिए दी गई थी। उन्होंने यह भी कहा था कि उन्होंने रिपोर्ट का अवलोकन किया है जिसने यह पाया है कि सिन्हा के आवास की आगंतुक डायरी में प्रविष्ठियां सही हैं।

हालांकि, रोहतगी ने यह भी कहा था कि डायरी की प्रविष्ठियों की सच्चाई के बारे में सिर्फ साक्ष्य के माध्यम से न्यायालय ही पता लगा सकता है। शीर्ष अदालत द्वारा नियुक्त यह समिति कोयला घोटाले की जांच सिन्हा द्वारा कथित रूप से प्रभावित करने आरोपों की जांच कर रही थी। समिति ने आरोपी व्यक्तियों के साथ मुलाकातों को पूरी तरह अनुचित बताया था। न्यायालय ने सात दिसंबर, 2015 को सिन्हा के सरकारी निवास की मूल आगंतुक डायरी शर्मा के नेतृत्व वाली समिति को सौंपने का आदेश दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग