ताज़ा खबर
 

बवालों और आरोपों के बीच अरविंद केजरीवाल ने किया ट्वीट- जीत सत्य की होगी!

अरविंद केजरीवाल ने कपिल मिश्रा को शनिवार को मंत्री पद से बर्खास्त कर दिया था। उसके बाद से कपिल मिश्रा केजरीवाल के खिलाफ मुखर हो गए हैं।
मंत्रिमंडल के सहयोगियों के साथ सीएम अरविंद केजरीवाल (Source-EXPRESS PHOTO)

बवालों और आरोपों बीच आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार की रात ट्वीट किया, “जीत सत्य की होगी! कल दिल्ली विधान सभा के विशेष सत्र से इसकी शुरुआत।” इससे पहले उनकी पार्टी ने उन पर रिश्वत लेने का आरोप लगाने वाले पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा को पार्टी से सस्पेंड कर दिया। पार्टी की पीएसी की हुई बैठक में इसका फैसला किया गया। कपिल मिश्रा ने अरविंद केजरीवाल पर रिश्वत लेने का आरोप लगाया है। रविवार को मीडिया से बात करते हुए कपिल मिश्रा ने कहा था कि उन्होंने अपनी आंखों से देखा है कि स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन ने केजरीवाल को दो करोड़ रुपये दिए हैं। अरविंद केजरीवाल ने कपिल मिश्रा को शनिवार को मंत्री पद से बर्खास्त कर दिया था। उसके बाद से कपिल मिश्रा केजरीवाल के खिलाफ मुखर हो गए हैं।

सोमवार शाम को भी प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर कपिल ने कहा कि उनके पास केजरीवाल के खिलाफ भ्रष्‍टाचार के पुख्‍ता सबूत हैं जो वो मंगलवार को सीबीआई को सौंपेंगे। उन्‍होंने कहा कि वह इस मामले में एफआईआर भी दर्ज कराएंगे। कपिल ने कहा, ”मैं गवाह बनकर खड़ा रहूंगा। मैं देश को बताना चाहता हूं कि सत्‍येंन्‍द्र जैन ने मुझे खुद बताया था कि जमीन की डील के लिए 50 करोड़ रुपए दिए। छतरपुर में 7 एकड़ के फॉर्म हाउस की डील और पीडब्‍ल्‍यूडी डिपार्टमेंट के 10 करोड़ के फर्जी बिलों को सही करने का काम भी सत्‍येन्‍द्र जी ने किया। अरविंद केजरीवाल के साढ़ू लगते हैं, बंसल परिवार की संस्‍थाएं हैं, उनके लिए ही ये काम जैन ने किया।”

प्रेस कॉन्फ्रेन्स में कपिल मिश्रा ने पार्टी द्वारा पीएसी की बैठक बुलाए जाने पर चुनौती देते हुए कहा था, ”7 बजे शाम में पीएसी की मीटिंग है, चैलेंज देता हूं कि मुझे पार्टी से निकाल कर दिखाओ। मुझे धमकियां मिल रही हैं मैसेजेस और फोन पर।” खुद पर बीजेपी से जुड़ाव के आरोपों पर कपिल ने कहा, ”ये सब बेबुनियाद है। सब जानते हैं कि मैं आप में बीजेपी और मोदी का सबसे मुखर आलोचक रहा हूं।” कपिल ने कहा, ”हमने अरविंद को भगवान समझा था। केजरीवाल अपनी कुर्सी नहीं छोड़ सकते, वह पहले जैसे नहीं रह गए हैं।” उन्‍होंने कहा, ”अगर बंद दरवाजे के पीछे फैसले लिए जाएंगे तो मैं उन्‍हें नहीं मानूंगा।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.