ताज़ा खबर
 

बलात्कार के झूठे मामले में फंसाने वाली महिला पर दर्ज होगा मामला

अदालत ने कहा कि महिला ने आरोपियों के लिए शर्मिंदगी पैदा की और न्यायिक प्रणाली का मजाक बनाया है।
Author नई दिल्ली | October 27, 2016 04:21 am
प्रतीकात्मक तस्वीर

दिल्ली की एक अदालत ने तीन लोगों के खिलाफ बलात्कार का झूठा आरोप लगाने पर एक महिला के खिलाफ झूठी गवाही का मामला दर्ज करने का आदेश दिया है। अदालत ने कहा कि महिला ने आरोपियों के लिए शर्मिंदगी पैदा की और न्यायिक प्रणाली का मजाक बनाया है। अदालत ने गंभीर प्रकृति के इस आपराधिक मामले में इन लोगों को फंसाने के लिए दो बेटियों की मां इस महिला की खिंचाई की।  अदालत ने कहा कि महिला को पता था कि इन लोगों ने उसके खिलाफ कोई अपराध नहीं किया है। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश शैल जैन ने कहा ‘मेरी राय है कि यह लोक प्राधिकार पुलिस को जानबूझकर झूठी जानकारी देने का मामला है, जिसके बाद पुलिस ने अपने कानूनी प्राधिकार के प्रयोग से आरोपियों की प्रतिष्ठा को चोट पहुंचाई’।

Speed News: जानिए दिन भर की पांच बड़ी खबरें

जज ने कहा कि इसलिए, मैं न्याय के हित में आपराधिक कृत्य (झूठी गवाही) के लिए और न्यायिक प्रणाली का मजाक बनाने के लिए याचिकाकर्ता के अभियोजन को उचित मानती हूं क्योंकि झूठा मामले स्वीकार करके इसकी सुनवाई करने में अदालत का अनमोल समय व्यर्थ गया साथ ही आरोपियों ने शर्मिंदगी झेली और उन्हें अदालती खर्चे के अलावा हताशा का भी सामना करना पड़ा। यह आदेश उस समय आया जब अदालत ने पश्चिमी दिल्ली के हरिनगर के रहने वाले तीन लोगों को बलात्कार के आरोप से बरी करते हुए कहा कि उन्होंने याचिकाकर्ता महिला को न तो ब्लैकमेल किया और न ही उसका बलात्कार किया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.