December 03, 2016

ताज़ा खबर

 

स्याही नहीं पहुंची बैंक मार्कर से की गई खानापूर्ति, बाहर आते ही लोगों ने मिटाए निशान

मतदान की तर्ज पर उंगली पर स्याही के निशान की सूचना फैल जाने के कारण बुधवार को शहर के ज्यादातर बैंकों के बाहर अन्य दिनों के मुकाबले कम भीड़ दिखाई दी।

Author नोएडा | November 17, 2016 03:57 am
स्याही लगाए जाने को लेकर यूजर्स ने उड़ाया सरकार का मजाक ।

घोषणा के मुताबिक, बुधवार को नोट बदलवाने वालों की उंगली पर लगाई जाने वाली स्याही बैंकों में नहीं पहुंच सकी। बैंक खुलने से पहले लोगों की लाइन बाहर लगने से बैंक कर्मियों ने स्याही के बजाए पर्मानेंट मार्कर या स्कैच पेन का इस्तेमाल कर खानापूर्ति की। इन निशानों को लोगों ने बाहर आने के बाद आसानी से मिटा दिया। उधर, बैंकों और एटीएम में 500 रुपए के नए नोट नहीं पहुंचने पर उन्हें पुराने नोट लेकर 5 व 10 रुपए के सिक्कों से भरे पैकेट थमाए गए। ज्यादातर लोगों ने पहले तो सिक्कों के पैकेट लेने से इनकार कर दिया। बाद में बैंक अधिकारियों के सिक्के नहीं लेने वालों के रुपए बदलने से मना कर दिया। हारकर लोग सिक्कों के पैकेट लेने को तैयार हुए। इस वजह से नोट बदलवाने वाले लोगों को एक नोट 2 हजार रुपए का और बाकी 2500 रुपए के सिक्कों के पैकेट थमाए गए। हालांकि एक आइडी पर दोबारा नोट नहीं बदलने और मतदान की तर्ज पर उंगली पर स्याही के निशान की सूचना फैल जाने के कारण बुधवार को शहर के ज्यादातर बैंकों के बाहर अन्य दिनों के मुकाबले कम भीड़ दिखाई दी।

शहर के सेक्टर-15, 16, 18, 29 आदि में बैंकों के बाहर लोग सुबह 8 बजे से ही लाइन में लग गए थे। सुबह 10 बजे बैंक खुलने तक स्याही नहीं पहुंची थी। लिहाजा बैंक कर्मियों ने पर्मानेंट मार्कर या स्कैच पेन का इस्तेमाल कर नोट बदलने के बाद लोगों की उंगली पर निशान लगाया। ऐसे लोगों ने बाहर आकर लाइन में लगे लोगों को निशान भी दिखाया। अलबत्ता चंद ही मिनटों में लोगों ने रगड़ कर स्याही के निशान को मिटा दिया। खास बात यह है कि बुधवार को काफी लोग अपने खातों में भी पुराने रुपए जमा कराने आए थे। उन लोगों की उंगली पर स्याही का निशान नहीं लगाया गया था। केवल आइडी पर नोट बदलवाने वालों की उंगली पर ही स्याही का निशान लगाया गया।

सुबह सत्र के करीब 3 घंटों बाद सेक्टर- 1, 2, 15 समेत कई बैंकों में नोट बदलवाने आए लोगों को 5 व 10 रुपए के सिक्कों की थैलियां दी जाने लगीं। ऐसे में 4500 रुपए बदलने आए व्यक्ति को 1 नोट 2 हजार रुपए का थमाया, जबकि 2500 रुपए के सिक्कों की थैलियां दी गर्इं। सेक्टर-44 के एक बैंक अधिकारी ने बताया कि 100, 50, 20, 10 रुपए के नोटों के अलावा 5 या 10 रुपए के सिक्कों को नोट बदलवाने वालों को देने पड़ रहे हैं। अभी तक 500 रुपए के नए नोट आए नहीं हैं। मांग के मुकाबले 20-25 फीसद 100 रुपए के नोट आने से बैंकों के बाहर लोगों की भीड़ तो बनी हुई है लेकिन वास्तविक राहत नहीं मिल रही है।

शीतकालीन सत्र: सीताराम येचुरी ने कहा- “2000 रुपए के नोट से भ्रष्टाचार दोगुना हो जाएगा”

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 17, 2016 3:57 am

सबरंग