December 06, 2016

ताज़ा खबर

 

दिल्ली: बैंकों और ATM के चक्कर लगाते रहे लोग, नोट के विवाद में पति-पत्नी की हत्या

नोटबंदी के 13 दिन के बाद भी बैंकों और एटीएम में भीड़ कम होने का नाम नहीं ले रही है।

Author नई दिल्ली | November 23, 2016 05:06 am
बैंक के सामने मौजूद भीड़।

नोटबंदी के 13 दिन के बाद भी बैंकों और एटीएम में भीड़ कम होने का नाम नहीं ले रही है। लोगों को भले ही घंटों लाइन में लगना पड़ रहा हो, लेकिन फिर भी वे सरकार के फैसले को जनहित में लिया गया फैसला बता रहे हैं। हालांकि शादी-ब्याह का मौसम होने के कारण शादी वाले घरों के लोग, व्यापारी और दूसरे लोग पैसों के लिए बैंकों के चक्कर लगाते नजर आए। कनॉट प्लेस स्थित पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) का शटर मंगलवार को दिन भर थोड़ी-थोड़ी देर पर उठता और गिरता रहा। शटर उठते ही बैंक के बाहर लाइन में लगे लोग अंदर घुसने की कोशिश करते और बैंक में से कुछ लोग बाहर निकलते थे। वहीं शटर के पास खड़ा गार्ड हर बार उन्हीं चार-पांच लोगों को बैंक में दाखिला देता जिनके पास टोकन थे। इस तरह तो गिनती के लोग ही बैंक में दाखिल हो पाते थे, लेकिन कई बार ऐसा भी हुआ, जब कई लोग शटर खुलते ही गार्ड को दबाते हुए अंदर घुुस गए। ऐसा तकरीबन शाम तक चलता रहा।

तीन बजे के करीब एक महिला बैंक में घुसने की कोशिश कर रही थी क्योंकि उसके साथ खड़े कई लोग बैंक में घुस चुके थे। वह गार्ड से गुहार लगाती रही और तब गार्ड ने उसे अकेले बैंक में जाने दिया। बैंक के अंदर भी बाहर की तरह लोगों की लाइन लगी थी। वहां सोफे पर बैठे नितिन का कहना था कि कुछ देर पहले तक बाहरी खाताधारकों को 24 हजार रुपए का भुगतान हो रहा था, लेकिन मुझे मना कर दिया गया है। उसने बताया कि वह पहाड़गंज में ट्रांसपोर्ट का काम करता है और उसका रोहतक में पीएनबी में खाता है। पुराने नोट बदलने के फैसले पर नितिन ने कहा कि इससे कालेधन पर रोक लगेगी। उसने बताया कि उसकी पहचान के डॉक्टर और कई ऐसे लोग हैं, जिनके पास करोड़ों रुपए नकद में पड़े हैं। अब लोगों के पैसे किसी काम के नहीं रह जाएंगे। उन्होंने कहा कि भले ही अभी परेशानी हो रही है लेकिन फैसला सही है।

बैंक में शादी का कार्ड लेकर पैसे निकालने पहुंचे प्रह्वाद का कहना था कि 25 तारीख को उनके बेटे की शादी है। सरकार ने तो कह दिया कि कार्ड दिखाने पर ढाई लाख रुपए मिलेंगे, लेकिन मुझे अब तक नहीं मिले। उम्मीद है कि आज बैंक से पैसे मिल जाएंगे क्योंकि ढाई लाख लेने में कम माथापच्ची नहीं है और इससे शादी का खर्च भी नहीं पूरा हो पाएगा।
वहीं एक बैंककर्मी का कहना था कि ढाई लाख में शादी हो सकती है। इस पर प्रह्वाद ने गिनाया कि शादी कराने वाले पंडित से लेकर घर में काम करने वाले मजदूर और फूल-माला से लेकर सजावटी समान तक में इतने पैसे खर्च हो जाएंगे। बाकी केटरिंग से लेकर टेंट तक तमाम बाहरी खर्चे तो अभी पड़े हुए हैं।

पुराने नोट लेनदेन के विवाद में दंपति की हत्या

दक्षिण पश्चिम जिले के कापसहेड़ा बिजवासन में पुरान नोट के लेन देने के नाम पर एक दंपति की गोली मार कर हत्या कर दी गई। मृतक संजय राणा और उनकी पत्नी ललिता शारीरिक रूप से अशक्त लोगों के लिए एक संस्था चलाते थे। उनका राजवीर नाम के व्यक्ति से संपत्ति को लेकर विवाद चल रहा था। संजय राणा को राजवीर को बीस लाख रुपए देने थे। राजवीर इस वक्त जेल में है। राजवीर ने संजय को कहा था कि वो पुराने नोट नहीं लेगा। इस बात को लेकर दोनों में विवाद हुआ और राजवीर ने जेल से ही अपने नाबलिग बेटे और तीन अन्य युवकों के साथ मिलकर ललिता और संजय राणा 14 नवंबर को उसके ही घर में हत्या करवा दी। जिले के पुलिस उपायुक्त सुरेंद्र कुमार के मुताबिक जांच के दौरान हरियाणा निवासी साहिल राणा और दो नाबालिग बदमाशों को हिरासत में लिया गया। एक अन्य बदमाश अंकित उर्फ किट्टू फरार है। पूछताछ पकड़े गए तीनों बदमाशों ने बताया कि हत्या का सार बीस लाख के लेन देन से जुड़ा हुआ है।

 

Speed News: जानिए दिन भर की पांच बड़ी खबरें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 23, 2016 5:06 am

सबरंग