December 09, 2016

ताज़ा खबर

 

नोटबंदी के खिलाफ रैलियां करेंगे केजरीवाल, केन्द्र के फैसले को बताया असंवेदनशील

केजरीवाल और ममता बनर्जी ने मांग की थी कि एक हजार और पांच सौ रुपए के नोटों का विमुद्रीकरण तीन दिन के अंदर वापस लिया जाए।

Author नई दिल्ली | November 18, 2016 22:04 pm
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल। (फाइल फोटो)

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मेरठ, लखनऊ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में रैलियां करके उच्च मूल्य के नोट चलन से बाहर करने के खिलाफ अपनी लड़ाई को तेज करने की तैयारी कर ली है। केजरीवाल ने कहा कि इसका समर्थन करना ‘राष्ट्र विरोधी’ है। दिल्ली के मुख्यमंत्री एवं आप के राष्ट्रीय संयोजक केजरीवाल की योजना पंजाब के साथ ही देश के कई अन्य हिस्सों में भी ऐसी ही रैलियां करने की है। पंजाब में अगले वर्ष विधानसभा चुनाव होने हैं। आप के प्रवेक्ता दीपक वाजपेयी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में केजरीवाल मेरठ, वाराणसी और लखनऊ में क्रमश: एक, आठ और 18 दिसम्बर को रैलियों को संबोधित करेंगे। केजरीवाल ने उच्च मूल्य के नोट चलन से बाहर करने का निर्णय वापस लेने के लिए गुरुवार को केंद्र को तीन दिन का अल्टीमेटम दिया था। उन्होंने एक समाचार चैनल से कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मशविरा करने के बाद वह अपने अगले कदम पर निर्णय करेंगे। केजरीवाल ने कहा, ‘उच्च मूल्य के नोट को चलन से बाहर करने के निर्णय का वर्तमान स्वरूप में समर्थन करना राष्ट्र विरोधी है। यह आठ लाख करोड़ रुपये का स्वतंत्र भारत के इतिहास में अब तक का सबसे बड़ा घोटाला है।’ केजरीवाल कल फेसबुक पर शाम सात बजे लोगों को सीधे संबोधित करेंगे और ‘नकदी संकट’ पर लोगों को ‘अवगत’ कराएंगे और ‘प्रधानमंत्री के खिलाफ दस्तावेज भी प्रस्तुत करेंगे।’

केजरीवाल 20 नवम्बर से 30 नवम्बर के बीच पंजाब में 21 रैलियों को संबोधित करेंगे। वह अपनी रैली की शुरुआत सुखबीर सिंह बादल के विधानसभा क्षेत्र जलालाबाद से करेंगे। 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान केजरीवाल वाराणसी से मोदी के खिलाफ खड़े हुए थे और तीन लाख से अधिक वोट से हार गए थे।
भाजपा की इस आलोचना के बारे में पूछे जाने पर कि वह ‘घोटाले की दागी’ तृणमूल कांग्रेस के साथ खड़े हो रहे हैं, केजरीवाल ने कहा कि वह चाहेंगे कि केंद्र ‘मेरे और ममता बनर्जी’ सहित सभी के खिलाफ जांच करें, लेकिन ‘उसे जांच करने से कौन रोक रहा है जबकि सभी एजेंसियों उसके अधीन हैं।’ इससे पहले केजरीवाल ने ट्वीट किया कि सरकार लोगों के साथ अपना ‘संपर्क खो’ चुकी है और उसके कदम से ‘असंवेदनशीलता’ की बू आती है। केजरीवाल ने कहा, ‘मैं बहुत दुखी हूं कि वित्तमंत्री ने इसकी समीक्षा करने और उसे वापस लेने पर विचार करने से सीधे मना कर दिया। लोगों से मोदी सरकार का संपर्क टूट गया है और वह बहुत असंवेदनशील बन गई है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 18, 2016 7:44 pm

सबरंग