ताज़ा खबर
 

DUSU office में बंदूकों के साथ दिखे ABVP नेता और DU अध्यक्ष अमित तंवर, विवाद बढ़ने पर हटाई ये तस्वीरें

दिल्ली यूनिवर्सिटी की स्टूडेंट यूनियन (डूसू) के ऑफिस की कुछ फोटोज सामने आई हैं। उन फोटोज में दिल्ली यूनिवर्सिटी के नए अध्यक्ष अमित तंवर के साथियों को उनके साथ बंदूक लिए खड़े दिखाया गया है।
बंदूक के साथ वाली फोटोज को अमित तंवर के फेसबुक पेज पर रविवार को शेयर किया गया था। बाद में सोमवार को उन्हें डिलीट भी कर दिया गया।

दिल्ली यूनिवर्सिटी की स्टूडेंट यूनियन (डूसू) के ऑफिस की कुछ फोटोज सामने आई हैं। उन फोटोज में दिल्ली यूनिवर्सिटी के नए अध्यक्ष अमित तंवर के साथियों को उनके साथ बंदूक लिए खड़े दिखाया गया है। अमित तंवर 2016-17 के डूसू चुनाव में एबीवीपी की तरफ से चुनाव जीतकर अध्यक्ष बने हैं। मिली जानकारी के मुताबिक, फोटोज अमित के भाई प्रदीप तंवर की याद में रखे गए एक कार्यक्रम की हैं। वह कार्यक्रम डूसू ऑफिस में रखा गया था। उसी कार्यक्रम में शामिल होने आए लोगों ने हाथों में बंदूक थी। फोटोज में राइफल और पिस्टल साफ तौर पर देखी जा सकती हैं। हालांकि, हथियारों को अमित ने नहीं बल्कि बाकी लोगों ने ही पकड़ा हुआ था। मिली जानकारी के मुताबिक, एनएसयूआई इसको मुद्दा बनाकर मंगलवार को एक प्रदर्शन कर सकती है। NSUI के नेशनल सेक्रेटरी विवेकानंद पाठक ने इस मामले पर बात करते हुए कहा, ‘डूसू ऑफिस में इस तरह का गैर जिम्मेदाराना रवैया पहली बार देखने को मिला है।’ इस मामले की शिकायत अभी यूनिवर्सिटी को भी नहीं की गई है।

वीडियो: जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान ने एक बार फिर सीज़फायर तोड़ा

दूसरी तरफ अपनी सफाई में अमित तंवर ने कहा है कि वे हथियार यूपी के एक नेता की सिक्योरिटी में लगे लोगों ने के थे। अमित ने कहा, ‘बंदूकें मेरी नहीं थीं। वे सभी एक नेता के साथ आए सिक्योरिटी में लगे लोगों की थीं। लेकिन वह कौन थे मैं उनका नाम नहीं जानता।’ इन फोटोज को अमित तंवर के फेसबुक पेज पर रविवार को शेयर किया गया था। बाद में सोमवार को उन्हें डिलीट भी कर दिया गया।

गौरतलब है कि इस बार के दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ (डूसू) में तीन सीटों पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) ने कब्जा किया वहीं एनएसयूआई के पास सिर्फ एक सीट संयुक्त सचिव(JS) के तौर पर गई। लेकिन यह साल NUSI के लिए पिछले दो सालों के मुकाबले अच्छा रहा। क्योंकि 2014 और 2015 में सभी चारों सीटों पर एबीवीपी ने बाजी मारी थी। ABVP की तरफ से अध्यक्ष पद पर अमित तंवर, उपाध्यक्ष पद पर प्रियंका, सचिव पद पर अंकित सिंह सांगवान और संयुक्त सचिव के पद पर विशाल यादव खड़े थे। जबकि NSUI की तरफ से अध्यक्ष पद पर निखिल यादव, उपाध्यक्ष पद पर अर्जुन चपराना, सचिव पद पर विनिता ढाका और संयुक्त सचिव पद पर मोहित गिरिड चुनावी मैदान में थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. i
    indian(ncr)
    Oct 4, 2016 at 10:31 am
    मीडिया बन्दूक को लेकर इतनी क्यों हाय तौबा कर रहा है वहीं जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में जब भारत की बर्वादी के नारे लगाए जाते हैं अनैतिक कार्यों का अड्डा बना हुआ है उसको तो मीडिया कभी नहीं दिखाया कैंपस एक नशाखोरी देह्वायापार का अड्डा बना हुआ लेकिन मीडिया मुंह बंद किये रहता है 2015-२०१६ में ३९ लड़कियों के बलात्कार के केस दर्ज हुए हैं कैंपस में शराब की बोतलें, कंडोम एक आम बात है टोमेडिया क्यों नहीं दिखती
    (0)(0)
    Reply
    1. Pardeep Punia
      Oct 4, 2016 at 4:21 pm
      डूसू के चुनाव में सीरियस टाइप के लोग नहीं है ....प्रेजिडेंट जो की अपने भाई के सामान दिवंगत छात्र के सम्मान में जो प्रोग्राम कर रहे है उसको फण्ड कौन कर रहा है , ये प्रोग्राम निजी होना चाहिए था न की डूसू का . जो भी बयां दिया वो नादाँ की तरह बचकाना बयां दिया.
      (0)(0)
      Reply
      सबरंग