ताज़ा खबर
 

करप्शन को लेकर दिल्ली विधानसभा में हंगामा करने वाले आप कार्यकर्ताओं की पिटाई, कपिल मिश्रा ने कहा- बंद कमरे में हुई हत्या की कोशिश

हंगामे के बाद इन दोनों युवकों को विधानसभा से बाहर निकाल दिया गया और इनकी पिटाई की गई। दिल्ली की सत्तारुढ़ आम आदमी पार्टी के विधायकों पर इन दोनों युवकों की पिटाई का आरोप लगा है।
दिल्ली विधानसभा में करप्शन का मुद्दा उठाने वाले शख्स को पकड़कर ले जाते सुरक्षाकर्मी (Photo-ANI)

देश की राजधानी दिल्ली की विधानसभा में आज (28जून) एक बार फिर असंसदीय दृश्य देखने को मिला। यहां दर्शक दीर्घा में बैठे दो युवकों ने विधानसभा की कार्यवाही के दौरान पर्चे फेंके और आप सरकार में मंत्री सत्येन्द्र जैन का इस्तीफा मांगा। इन दोनों युवकों ने मंत्री सत्येन्द्र जैन पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया और उनके इस्तीफे की मांग की। बताया जा रहा है कि हंगामे के बाद इन दोनों युवकों को विधानसभा से बाहर निकाल दिया गया और इनकी पिटाई की गई। दिल्ली की सत्तारुढ़ आम आदमी पार्टी के विधायकों पर इन दोनों युवकों की पिटाई का आरोप लगा है। इस बीच विधानसभा में पर्चा फेंकने वाले इन दोनों युवकों के खिलाफ प्रस्ताव पारित किया गया है। स्पीकर रामनिवास गोयल ने इन दोनों को एक महीने की जेल की सजा सुनाई है।

इस बीच आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता और विधायक कपिल मिश्रा विधानसभा में हंगामा करने वाले युवकों के समर्थन में आ गये हैं। उन्होंने कहा है कि जिस प्रकार से दोनों को बंद कमरे में पीटा गया वो उनकी हत्या का प्रयास है और भयानक अपराध है। कपिल मिश्रा ने कहा कि करप्शन के मुद्दे पर आपका अपना ही कार्यकर्ता आवाज उठा रहा है। कपिल मिश्रा ने ट्वीट कर दावा किया है कि पर्चा फेंकने वाले शख्स का नाम जगदीप राणा है और ये शख्स आम आदमी पार्टी का एमएलए कैंडिडेट रह चुका है। कपिल मिश्रा ने कहा है कि पर्चा फेंकने वाले दोनों छात्रों ने अहिंसात्मक तरीके से अपना विरोध दर्ज करवाया था जैसा कि कभी भगत सिंह ने अंग्रेजों के खिलाफ किया था तो फिर इन लोगों पर हमला क्यों किया गया। कपिल मिश्रा के मुताबिक इनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई होनी चाहिए थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. K
    kapil bajaj
    Jun 28, 2017 at 6:27 pm
    आम आदमी पार्टी के विधायकों द्वारा दो प्रदर्शनकारियों की जमकर पिटाई किये जाने से साबित होता है कि केजरीवाल का 'स्वराज' स्थापित हो चुका है. और AAP विधायक प्रदर्शनकारियों को थोड़ी सख्ती से ये बताने की कोशिश कर रहे थे कि बजाये विधान सभा में शोर शराबा करने के उन्हें अपनी मोहल्ला सभा में अपनी बात कहनी चाहिए थी. सभी नागरिकों को 'स्वराज' के नियम काएदे सीखने की ज़रुरत है.
    (0)(0)
    Reply