June 28, 2017

ताज़ा खबर
 

फूल के समान है मेरी सरकार, मैं उन लोगों एवं समूहों के खिलाफ हूं, जो समाज के लिए खतरा हैंः शिवराज

मुख्यमंत्री पद पर 11 साल पूरे होने पर शिवराज राज सिंह चौहान ने कहा कि सज्जनों के लिए मेरी सरकार फूल के समान है और जनता को तकलीफ देने वाली चीज या लोगों के लिए मैं कड़ा रुख अपनाता हूं।’

Author भोपाल | November 29, 2016 17:24 pm
प्रेस मीट के दौरान शिवराज सिंह चौहान

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री के तौर पर लगातार आज 11 साल पूरे करने और इस मामले में प्रदेश में एक नया रिकार्ड बनाने पर सेन्ट्रल प्रेस क्लब द्वारा यहां आयोजित ‘प्रेस-से-मिलिये’ कार्यक्रम में चौहान ने एक प्रश्न के उत्तर में कहा, बाद में चौहान ने याद दिलाया, ‘मेरे सत्ता में आने के बाद मध्यप्रदेश में डकैतों के आतंक को भी खत्म कर दिया गया है।’ उन्होंने बताया, ‘‘सज्जनों के लिए मेरी सरकार फूल के समान है और जनता को तकलीफ देने वाली चीज या लोगों के लिए मैं कड़ा रुख अपनाता हूं।’ प्रदेश के 4,000 स्कूलों में एक भी शिक्षक नहीं होने के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘मध्यप्रदेश में कोई स्कूल शिक्षक रहित नहीं है। हर स्कूल में कम से कम एक शिक्षक जरूर है।’

जब उनसे पूछा गया कि आइना दिखा रहा है कि उनके राज में प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाएं, शिक्षा एवं रोजगार क्षेत्र चौपट हो गया है, इस पर उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा के सत्ता में आने के बाद पिछले 13 साल में कांगे्रस से विरासत में मिली इन तीनों चौपट व्यवस्था को हम पटरी पर लेकर आए हैं।’ चौहान ने बताया, ‘मेरे राज में सरकारी स्कूलों की गुणवत्ता बढ़ रही है, अस्पतालों में निशुल्क दवा देने की व्यवस्था की गई हैै। इसके साथ-साथ सरकारी क्षेत्र के अलावा छोटे व बड़े उद्योगों ने मध्यप्रदेश में दस्तक दी है, इसलिए रोजगार के अवसर बढ़े हैं।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, ‘पिछले 11 साल के शासनकाल में लाड़ली लक्ष्मी योजना बनाकर मुझे सबसे ज्यादा खुशी हुई, जबकि झाबुआ जिले के पेटलावद में हुए विस्फोट में मारे गये लोगों के प्रति मुझे सबसे ज्यादा दुख हुआ।’ मालूम हो कि पेटलावद में अवैध रूप से रखे हुए जिलेटिन की छड़ों एवं खदानों में धमाका करने के लिए उपयोग में लाई जाने वाले अन्य चीजों में विस्फोट होने से 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी। चौहान ने कहा कि वह अपनी आलोचना से विचलित नहीं होते, क्योंकि लोकतंत्र में यह एक अच्छी परंपरा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 29, 2016 5:22 pm

  1. No Comments.
सबरंग