December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

अमिताभ बच्चन के इस हमशक्ल के पास है “सच्ची खुशी” का राज़, ऑटोवाले की आपबीती हुई वायरल

क दिन मैं सुबह सोकर उठा और नौकरी छोड़ दी। मुझे नहीं पता था कि मैं क्या करूंगा। लेकिन मुझे कई चीजें अच्छी लगती थीं मसलन, नए लोगों से मिलना, फोटोग्रॉफी और स्केचिंग।

अमिताभ बच्चन के ये हमशक्ल मुंबई में ऑटो चलाते हैं।

सच्ची खुशी की तलाश दुनिया में हर किसी होगी लेकिन शायद बहुत कम लोग उसे हासिल कर पाते हैं। सच्ची खुशी पाने का क्या राज है इस पर सैकड़ों किताबें लिखी जा चुकी हैं फिर उसका पता मुश्किल से चलता है। लेकिन जब पिछले गुरुवार (20 अक्टूबर) को ह्यूमंस ऑफ बॉम्बे ने अपने फेसबुक पेज पर एक पोस्ट शेयर की तो वो देखते ही देखते वायरल हो गई क्योंकि उसमें “सच्ची खुशी” का फार्मूला छिपा था। ये तस्वीर थी एक ऑटोवाले की जिसकी सजधज फिल्म सुपरस्टार अमिताभ बच्चन से मिलती-जुलती है।

उन्होंने अपने फोटोग्रॉफी के शौक के लिए अपनी नौ से पाँच की नौकरी छोड़ दी। अब वो ऑटोरिक्शा चलाते हैं और हमेशा नए-नए लोगों से मिलते हैं। ह्यूमंस ऑफ बॉम्बे की पोस्ट में उन्होंने बतााया है, “मैं हिंदुस्तान यूनिलीवर में काम करता था लेकिन नौ से पाँच की नौकरी मुझे बहुत मशीनी लगती थी। कंपनी में कोई दिक्कत नहीं थी लेकिन रोज एक ही ढर्रे के काम से मैं नफरत करता था। तब मैं दुखी रहता था। एक दिन मैं सुबह सोकर उठा और नौकरी छोड़ दी। मुझे नहीं पता था कि मैं क्या करूंगा। लेकिन मुझे कई चीजें अच्छी लगती थीं मसलन, नए लोगों से मिलना, फोटोग्रॉफी और स्केचिंग। मैं एक जगह ठहर कर नहीं रहना चाहता था। मैं आजाद रहना चाहता था…इसलिए मैंने कुछ महीनों बाद ये ऑटो खरीदा। मैं जानता था कि इस काम में मुझे हमेशा नए लोगों से मिलने को मिलेगा और अपनी रचनात्मकता के लिए भी काफी समय मिलेगा। ये सच है कि मुझे 12 घंटे काम करने होते हैं लेकिन मैं रोज नए नए लोगों से मिलता हूं इसलिए मुझे ये रोमांचक लगता था। इतना ही नहीं मैंने बॉम्बे भर के स्टूडियो से फोटोग्रॉफी सीखा।”

वीडियो: समाजवादी परिवार में चल रहे झगड़े का विश्लेषण- 

आज 40 साल बाद उन्हें लगता है कि उनकी नौकरी दुनिया में सबसे अच्छी है। वो अपने यात्रियों के संग तस्वीरें खिंचाते हैं, लिखते हैं, पेंटिंग करते हैं और घूमते हैं। वो फोटोग्रॉफी के लिए लंदन, अफ्रीका, दुबई जैसी जगहों की सैर कर चुके हैं। वो एमएससी तक पढ़ाई कर चुके हैं और धाराप्रवाह अंग्रेजी बोलते हैं। वो कहते हैं, “लोग मुझसे अक्सर पूछते हैं कि मैं ऑटो क्यों चलाता हूं? मैं कहता हूं, खुशी ऐसी चीज है जिसे दुनिया की कोई दौलत नहीं खरीद सकती। और आपको इसका अहसास है तो आप दुनिया के सबसे अमीर आदमी हैं। मैं हर रोज खुद को दुनिया का सबसे खुशनसीब इंसान महसूस करता हूं।”

पढ़ें पूरी फेसबुक पोस्ट-

अभी तक इस पोस्ट को दो हजार से अधिक लोग शेयर कर चुके हैं। वहीं 17 हजार से ज्यादा लोग इसे लाइक कर चुके हैं। तो क्या आप भी अपनी एक ही ढर्रेवाली नौकरी से ऊब चुके हैं और कुछ रचनात्मक करना चाहते हैं? कहना न होगा, इस सवाल के जवाब में ही आपकी खुशी का राज छिपा है।

Read Also: सोशल मीडिया पर वायरल हुआ यादव परिवार का ‘दंगल’, खूब शेयर हो रहा यह पोस्‍टर

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 24, 2016 6:16 pm

सबरंग