ताज़ा खबर
 

गुड़िया रेप केस: बेपरवाह पुलिस के खिलाफ सड़कों पर उबाल

प्रदर्शनकारियों ने पहले थाने में पथराव किया और फिर थाने के एक कोने में आग लगा दी। हंगामे पर उतारू प्रदर्शनकारियों से निपटने में पुलिस बेबस नजर आई। अनियंत्रित भीड़ को खदेड़ने के पुलिस के प्रयास नाकाफी साबित हुए।
Author शिमला | July 20, 2017 02:04 am
पुलिस के खलाफ लड़ती भीड़।

सेब के बागान के लिए प्रसिद्ध शिमला जिले के कोटखाई कस्बे में सनसनीखेज गुड़िया (छद्म नाम) प्रकरण में एक आरोपी की पुलिस हिरासत में मौत के विरोध में उग्र भीड़ ने बुधवार यहां कोटखाई थाने में जमकर बवाल काटा। मंगलवार आधी रात हुई इस हत्या का बुधवार सुबह जैसे ही लोगों को पता चला तो आक्रोशित भीड़ ने थाना फूंकने का प्रयास किया। थाने के अंदर-बाहर जमकर तोड़फोड़ की गई। थाने के बाहर खड़े पुलिस वाहन भी जला दिए गए। रोकने का प्रयास कर रहे पुलिस जवानों के साथ हाथापाई भी हुई। जमकर पथराव हुआ जिसमें कई पुलिस जवान घायल हुए। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस की ओर से हवाई फायरिंग भी की गई। प्रदर्शनकारियों ने पहले थाने में पथराव किया और फिर थाने के एक कोने में आग लगा दी। हंगामे पर उतारू प्रदर्शनकारियों से निपटने में पुलिस बेबस नजर आई। अनियंत्रित भीड़ को खदेड़ने के पुलिस के प्रयास नाकाफी साबित हुए।
हालात को काबू पाने में बेबस स्थानीय पुलिस को नजदीकी जुब्बल और ठियोग थानों से अतिरिक्त पुलिस बल बुलाना पड़ा। प्रदर्शनकारियों में यह गुस्सा पुलिस की कार्यशैली को लेकर है। उनका कहना है कि पहले गुड़िया कांड में पुलिस रईसजादों को बचाने में लगी रही और अब पुलिस हिरासत में एक आरोपी की हत्या हो गई। पूरे मामले में पुलिस की जांच प्रक्रिया पर शुरू से ही सवाल उठा रहे हैं। इस बीच राज्यपाल ने प्रदेश सरकार से दो दिन में इस पूरे मामले की रिपोर्ट तलब किया है।

इस बीच बुधवार को कोटखाई से लेकर शिमला तक पुलिस के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हुए। प्रदर्शनकारियों ने जिले के ठियोग और ढली में चक्का जाम किया, जिससे हिंदुस्तान-तिब्बत राजमार्ग पर वाहनों की आवाजाही भी पांच-छह घंटे थमी रही। उधर विपक्षी पार्टी भाजपा ने इस घटना को लेकर पुलिस प्रशासन और सरकार को निशाने पर लिया है और 20 जुलाई को शिमला बंद का एलान किया है। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता महेंद्र धमार्णी ने कहा कि पार्टी इस पूरे मामले को लेकर पूरे प्रदेश में विरोध प्रदर्शन करेगी और दोषियों को सलाखों में बंद करएगी।उन्होंने कहा कि भाजपा कार्यकर्ता सड़कों पर उतरेंगे और प्रदेश सरकार और पुलिस प्रशासन के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया जाएगा। भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि पार्टी 21 जुलाई को पूरे प्रदेश में जिला मुख्यालयों पर धरने-प्रदर्शन करेगी और मुख्यमंत्री का पुतला जलाया जाएगा।

इसी बीच शिमला के माल रोड पर भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के साथ सैकड़ों एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने धरना-प्रदर्शन कर धारा-144 का उल्लंघन किया। भाजपा ने असली गुनाहगारों को गिरफ्तार करने, पुलिस हिरासत में एक आरोपी की हत्या को लेकर न्यायिक जांच और डीजी, आइजी से लेकर एसपी को लाइनहाजिर करने की मांग की है। साथ ही मामले की जल्द से जल्द सीबीआइ जांच की भी मांग की।भाजपा नेताओं ने कहा कि हमारा मानना है कि पुलिस हिरासत में आरोपी की हत्या बिना पुलिस और सरकार की मिलीभगत के संभव नहीं है। इसलिए इस प्रकरण में केवल पुलिस कांस्टेबल ही नहीं बल्कि डीआइजी, आइजी समेत एसपी रैंंक के अधिकारियों के भी लाइनहाजिर किया जाना चाहिए।  इस बीच गुड़िया कांड के आरोपी सूरज की पुलिस हिरासत में हुई हत्या के खिलाफ बुधवार को शिमला नागरिक सभा ने डीसी आॅफिस से स्कैंडल प्वाइंट तक प्रदर्शन किया। नागरिक सभा अध्यक्ष यहां प्रदर्शन के दौरान एलान किया कि गुड़िया कांड पर शिमला नागरिक सभा शिमला बंद करेगी। गौरतलब है कि कोटखाई के एक सरकारी स्कूल की 10वीं कक्षा की छात्रा 4 जुलाई को अचानक लापता ही गई थी। 6 जून को उसका शव कोटखाई के जंगल से बरामद हुआ था। इस सिलसिले में पुलिस ने सूरज और राजेंद्र सहित 6 लोगों को गिरफ्तार किया । प्रदेश सरकार ने यह केस आगामी जांच के लिए सीबीआइ को सौंप दिया है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग