ताज़ा खबर
 

मंदिर के ‘अपवित्रीकरण’ को लेकर विरोध प्रदर्शन के बीच महबूबा सरकार ने कहा संपत्ति ‘जस की तस’

दक्षिण कश्मीर में अनंतनाग जिले के भार्गाशाखा भगवती मंदिर के कथित ‘‘अपवित्रीकरण’’ को लेकर विरोध प्रदर्शन के बीच जम्मू-कश्मीर सरकार ने आज कहा कि मंदिर परिसर की जांच में वहां की सभी संपत्तियां ‘‘जस की तस’’ पायी गयी हैं।
Author जम्मू | April 29, 2017 05:06 am
जम्मू-कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती

दक्षिण कश्मीर में अनंतनाग जिले के भार्गाशाखा भगवती मंदिर के कथित ‘‘अपवित्रीकरण’’ को लेकर विरोध प्रदर्शन के बीच जम्मू-कश्मीर सरकार ने आज कहा कि मंदिर परिसर की जांच में वहां की सभी संपत्तियां ‘‘जस की तस’’ पायी गयी हैं। एक आधिकारिक प्रवक्ता ने कहा कि मंदिर के ‘‘अपवित्रीकरण’’ किए जाने का दावा करते हुए शरारती तत्वों द्वारा सोशल मीडिया पर पोस्ट एवं तस्वीरें डाले जाने के बाद जिला अधिकारियों की एक टीम ने मट्टन इलाके में स्थित मंदिर की जांच की। मंदिर परिसर की जांच में सभी संपत्तियां जस की तस पायी गयीं। जिला प्रशासन ने साथ ही लोगों से इस तरह की अफवाहों पर ध्यान ना देने को कहा जिनका उद्देश्य तनाव फैलाना होता है।

इस बीच, कश्मीरी पंडित और डोगरा संगठनों ने कथित ‘‘अपवित्रीकरण’’ को लेकर आज यहां विरोध प्रदर्शन किए। सर्वदलीय विस्थापित समन्वय समिति, पन्नून कश्मीर, जम्मू फॉर इंडिया और आल स्टेट कश्मीरी पंडित कान्फ्रेंस सहित अन्य संगठनों ने प्राथमिकी दर्ज करने तथा इस मामले में कार्रवाई के लिए विशेष जांच दल गठित करने की मांग की। उन्होंने दावा किया कि राज्य सरकार इस घटना को ‘‘कमतर’’ करके बता रही है।

हाल ही महबूबा और मोदी की मुलाकत हुई थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक महबूबा-मोदी के बीच चुनाव के दौरान हिंसा और कम मतदान के अलावा गठबंधन, सिंधु जल समझौते के कारण राज्य को नुकसान पर भी बातचीत हुई। एचटी की रिपोर्ट के मुताबिक राज्य में हालत पर काबू पाने के लिए एक माहौल पैदा करना होगा। पत्थरबाजों को गोलियों से जवाब देने से कोई हल नहीं निकलेगा।

वहीं बीजेपी और पीडीपी के मदभेदों के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि इसे बातचीत से ही सुलझाया जाएगा। उन्होंने कहा कि घाटी में राज्यपाल शासन का फैसला केंद्र सरकार ही लेगी। इसके अलावा कश्मीर में कानून-व्यवस्था को लेकर महबूबा ने केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह से भी मुलाकात की। मोदी और महबूबा की मुलाकात एेसे वक्त पर हो रही है, जब हाल ही में संपन्न हुए उपचुनावों में काफी हिंसा देखी गई थी। यहां वोटिंग पर्सेंटेज भी कम रहा था। श्रीनगर सीट पर नेशनल कॉन्फ्रेंस के फारूक अब्दुल्ला ने जीत हासिल की थी। यह सीट पीडीपी ने 2014 के लोकसभा चुनावों में जीती थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग