ताज़ा खबर
 

दिल्ली नागरिकों के जीवन को नरक बना रहा एमसीडी: हाई कोर्ट

दिल्ली हाई कोर्ट ने शुक्रवार को कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में नगर निगमों के कामकाज में पारर्दिशता के अभाव ने नागरिकों के जीवन को नरक बना दिया है।
Author नई दिल्ली | July 22, 2017 00:56 am
दिल्ली हाईकोर्ट

दिल्ली हाई कोर्ट ने शुक्रवार को कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में नगर निगमों के कामकाज में पारर्दिशता के अभाव ने नागरिकों के जीवन को नरक बना दिया है। अदालत ने नगर निकायों से शहर में अवैध ढांचों के निर्माण पर सूचना को आॅनलाइन डालने का परामर्श दिया। कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति गीता मित्तल और न्यायमूर्ति अनु मल्होत्रा के पीठ ने कहा कि अनधिकृत इमारतों का निर्माण किया जा रहा है और आवासीय क्षेत्रों में नगर निगमों के अधिकारियों की साठगांठ से अवैध तरीके से व्यापार चलाया जा रहा है।

अदालत ने कहा, ‘कैसे इमारतों का निर्माण हो रहा है। आपके कामकाज का तरीका बिल्कुल साफ है। आपके अधिकारियों की दिलचस्पी सिर्फ अपनी पीठ बचाने में है। दिल्ली के नगर निगमों में पारर्दिशता का अभाव नागरिकों के जीवन को नरक बना रहा है’। पीठ की टिप्पणी तब आई जब दक्षिणी दिल्ली स्थित एक जिम को वहां नगर निगम द्वारा तोड़-फोड़ का नोटिस जारी किए जाने के खिलाफ एक याचिका का उसके समक्ष उल्लेख किया गया।

याचिकाकर्ता के वकील ने दावा किया कि इलाके में कई जिम चल रहे हैं लेकिन निगम ने कार्रवाई के लिये सिर्फ उनके मुवक्किल के व्यापार को चुना। अदालत ने निगमों में से एक के वकील से पूछा कि क्यों सिर्फ याचिकाकर्ता के व्यापार को चुना गया और उचित पीठ के समक्ष अगले हफ्ते सुनवाई के लिए याचिका को सूचीबद्ध करने की इजाजत दे दी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. K
    kk
    Jul 23, 2017 at 5:20 pm
    दिल्ली के नागरिक BIMARU राज्यों के मूर्ख मतदाता नहीं हैं. खुद ही चुना है यह MCD, अब रोना कहे का?
    (0)(0)
    Reply
    सबरंग