ताज़ा खबर
 

शर्मनाक: हादसे के बाद सड़क पर खून से लथपथ पड़ा था शख्स, लोग मरने तक तस्वीरें खींचते रहे, वीडियो बनाते रहे

डॉक्टर कहते हैं कि अगर वहां पर मौजूद उसकी मदद करते तो उसकी जान बचाई जा सकती थी।
समय पर इलाज ना मिलने की वजह से सतीश प्रभाकर मेटे की मौत हो गई।

महाराष्ट्र के पुणे में संवेदनहीनता की एक शर्मनाक घटना सामने आई है। यहां पर 25 साल का एक आईटी इंजीनियर सड़क दुर्घटना के बाद घायल हो गया। सड़क पर पड़े इस इंजीनियर के शरीर से खून निकलता रहा, वो मदद के लिए चिल्लाता रहा, लेकिन लोग मदद करने की बजाय तस्वीरें खीचते रहे, और वीडियो बनाते रहे। लगभग 25 से 30 मिनट के बाद डॉ कीर्तिराज नाम के एक दातों के डॉक्टर ने उसे सड़क पर तड़पते देखा तो तुरंत उसे अस्पताल ले गये, लेकिन अस्पताल ने इस शख्स को मृत घोषित कर दिया। इस बीच इस शख्स की मौत की तस्वीरें और वीडियो देश भर के कई मोबाइलों में शेयर हो चुकी थीं। अगर फोटो खींचने वाले लोगों ने थोड़ी भी मदद कर दी होती तो इस शख्स की जान बच सकती थी। पुलिस ने दुर्घटना में मरने वाले इस शख्स की पहचान सतीश प्रभाकर मेटे के रुप में की है। ये घटना बुधवार शाम की है। उस वक्त मृतक सतीश अपने दोस्तों से मिलकर बाइक से वापस आ रहा था। भोसरी एमआईडीसी पुलिस स्टेशन के सीनियर इंस्पेक्टर भीमराव शिनगदे के मुताबिक, प्राथमिक जांच में पता चला है कि मेटे की बाइक को एक चौपहिया वाहन ने टक्कर मार दी, जिसकी पहचान अबतक नहीं हो पाई है, इस दौरान वहां कुछ लोग खड़े थे, लेकिन उनके पास टक्कर मारने वाले गाड़ी की जानकारी नहीं है।

मृतक सतीश को यशवंत राव च्वहाण मेमोरियल अस्पताल लाने वाले डेंटिस्ट डॉ कीर्तिराज ने बताया, ‘मैं सड़क के किनारे टहल रहा था, तभी मैने देखा कि कुछ लोग एक युवक को घेर कर खड़े हैं, मैं वहां गया तो देखा तो एक शख्स जमीन पर पड़ा हुआ है, उसका काफी खून बह चुका था, मैं काफी हैरत में था कि लोग उसकी मदद करने की बजाय फोटो ले रहे थे और वीडियो बना रहे थे, मैंने उसे सीपीआर देकर उसकी सांस चालू करने की कोशिश की।’ डॉ कीर्तिराज आगे बताते हैं कि तब तक 25 से 30 मिनट गुजर चुका था मैंने एक ऑटो रुकवाई और उसे अस्पताल वाईसीएमएच ले गया, रास्ते में शायद उसकी धड़कन चल रही थी, लेकिन अस्पताल में डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। डॉक्टर कहते हैं कि अगर वहां पर मौजूद उसकी मदद करते तो उसकी जान बचाई जा सकती थी।मृतक सतीश प्रभाकर औरंगाबादा का रहने वाला था और एक आईटी कंपनी में काम करता था। पुलिस ने उसके पार्थिव शरीर को पोस्टमार्टम के बाद उसके परिवारवालों को सौंप दिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग