ताज़ा खबर
 

मंत्री रामदास अठावले को करना पड़ा सेकंड एसी में सफर, टीटीई ने नहीं की मदद, अब रेल मंत्री से करेंगे शिकायत

केंद्रीय राज्य मंत्री रामदास अठावले सेकेंड एसी टिकट दिए जाने का मामला रेल मंत्री सुरेश प्रभु के सामने उठाएंगे।
Author मुंबई | September 5, 2016 07:48 am
आरपीआई (ए) के नेता और केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले। (पीटीआई फाइल फोटो)

केंद्रीय राज्य मंत्री रामदास अठावले पिछले हफ्ते साप्ताहांत में ट्रेन से अपने पैतृक निवास सांगली जा रहे थे। जब अठावले को पता चला कि उनके लिए एसी सेकंड क्लास का टिकट बुक किया गया है तो वो काफी नाराज हुए। उनने आनन-फानन में टीसी को तलब किया। अठावले ने टीसी को याद दिलाया केंद्रीय राज्य मंत्री के प्रोटोकाल के अनुसार उनका टिकट एसी फर्स्ट क्लास का का होना चाहिए था। मंत्रीजी के इसरार के बावजूद टीसी ने किसी तरह की मदद करने में असमर्थता जता दी। टीसी का कहना था कि टिकट सेकंड क्लास का है इसलिए वो कुछ नहीं कर सकता। हारकर अठावले को 10 घंटे लम्बी यात्रा सेकंड एसी में ही करनी पड़ी। इस बरताव से आहत अठावले ने मामले को रेल मंत्री सुरेश प्रभु के सामने उठाने का फैसला किया है।

राज्य सभा सांसद अठावले नरेंद्र मोदी कैबिनेट में सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय में केंद्रीय राज्य मंत्री हैं। रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (आरपीआई) नेता अठावले को 2014 में महाराष्ट्र से बीजेपी ने उच्च सदन में भेजा था। अठावले 1998-99 में मुंबई नार्थ सेंट्रल से लोक सभा सांसद रह चुके हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. B
    bitterhoney
    Sep 5, 2016 at 2:58 am
    अठावले जी ज़रा उन रेल यात्रियों के बारे में सोचें जो थर्ड क्लास में सफर करते हैं . आखिर इन नेताओं की किस तरह की मानसिकता है मंत्री बनते ही दिमाग़ ख़राब हो जाता है यह क्या देश की सेवा करेंगे. lanat है aise swarthi नेताओं par,
    (1)(0)
    Reply
    1. D
      Dev Verma
      Sep 5, 2016 at 2:46 pm
      ओ'मंत्री साहिब कभी तो कॉममेंमन की तेरह जीना सीखो. पीपल लिखे हिम doesn'टी देसेर्वे आ ३र्द क्लास सीट.
      (1)(0)
      Reply
      1. S
        Sidheswar Misra
        Sep 5, 2016 at 3:09 am
        अठावले जी कुछ नियम होते है ऐसी फ़ास्ट में जगह होती टीटी जरूर उसे बदल देता .जिस समुदाय का आप प्रतिनिधित्व करते वह बेचारे साधारण डिब्बे में शौचालयों के पास सफर करते है उनके विषय में रेल मंत्री से बात करते तो अच्छा लगता आप का गुण गान होता . आप ने तो आंबेडकर जी का नाम बदनाम कर दिया .
        (0)(0)
        Reply
        सबरंग