ताज़ा खबर
 

विदेश में रह रहे बेटे ने एक साल से नहीं की मां से बात, मुंबई लौटा तो घर में मिला सिर्फ उनका कंकाल

अमेरिका से लौटे साहनी रविवार सुबह ओशिवारा फ्लैट में मां के पास पहुंचे थे।
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (फाइल फोटो)

अमेरिका में बसे रितुराज साहनी जब रविवार (7 अगस्त, 2017) को मुंबई के ओशिवारा में अपनी मां से मिलने आए तो फ्लैट के अंदर का नजारा देखकर उनके होश उड़ गए। दरअसल अमेरिका से लौटे साहनी रविवार सुबह ओशिवारा फ्लैट में मां के पास पहुंचे थे। लेकिन बहुत देर तक दरवाजा खटखटाने पर भी अंदर से कोई बाहर नहीं आया। इस पर साहनी चिंतित हुए और नकली चाबी की मदद से दरवाजा खोला। लेकिन बेडरूम में जाकर देखा तो वहां 63 साल की मां का सिर्फ कंकाल बचा था। पूरा शरीर बुरी तरह सड़ चुका था। मामले की जांच कर रही पुलिस का कहना है कि, ‘शुरुआती जांच से लगता है कि महिला की मौत कई हफ्ते पहले हो चुकी थी। हमने केस दर्ज कर लिया है। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने पर ही कुछ कहा जा सकता है। हालांकि मृतक महिला के शरीर पर किसी तरह के जख्म के निशान ना होने से ये हत्या का मामला नहीं नजर आता। वहीं दरवाजा भी अंदर की तरफ से बंद था।’

ओशिवारा पुलिस स्टेशन के सीनियर अधिकारी सुभाष खनविल्कर ने कहा, ‘आशा के सहानी अंधेरी के लोखंडवाला इलाके में वोल कोस्ट सोसायटी की एक इमारत की दसवीं मंजिल पर रहती थी। उनके पति की मौत साल 2013 में हो चुकी है। उनका एक बेटा रितुराज, जो एक इंजीनियर है, साल 1997 में अमेरिका जाकर बस गया।’ दोनों मां-बेटे की आखरी बार फोन पर बातचीत भी बीते साल अप्रैल में हुई थी। इस दौरान आशा ने बताया कि वो घर में अकेलापन महसूस करती हैं। और बेटे से ओल्ड एज होम भेजने की भी बात कही थी। खनविल्कर के अनुसार 10वीं मंजिल पर सिर्फ दो फ्लैट हैं। वहीं साहनी के पड़ोसी ने बताया कि उन्हें फ्लैट से ऐसी कोई भी स्मेल नहीं आई जिससे किसी तरह का शक पैदा होता।

दूसरी तरफ पुलिस ने रितुराज के हवाले से बताया, ‘बेडरूम में मौजूद आशा का शव बुरी तरह सड़ चुका था। शरीर के नाम पर सिर्फ कंकाल बचा था। हमें शक है कि उनकी मौत कई सप्ताह पहले हो चुकी थी।’ वहीं पुलिस रितुराज के बयान के आधार पर मामले में छानबीन करने में जुट गई है। वहीं अन्य उन लोगों से भी पूछताछ की जा रही है जिन्होंने आखरी बार आशा से बात की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग