June 25, 2017

ताज़ा खबर
 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोले- मैं गाना गाऊंगा तो आप लोग पैसे वापस मांगोगे और वो भी 100-100 के नोट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुंबई में ग्‍लोबल सिटीजन फेस्टिवल में लोगों को संबोधित करते हुए 1000 और 500 रुपये के पुराने नोटों को बंद करने के फैसले पर मजेदार टिप्‍पणी की।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुंबई में ग्‍लोबल सिटीजन फेस्टिवल में लोगों को संबोधित करते हुए 1000 और 500 रुपये के पुराने नोटों को बंद करने के फैसले पर मजेदार टिप्‍पणी की। (Photo: PTI)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुंबई में ग्‍लोबल सिटीजन फेस्टिवल में लोगों को संबोधित करते हुए 1000 और 500 रुपये के पुराने नोटों को बंद करने के फैसले पर मजेदार टिप्‍पणी की। वीडियो कॉन्‍फ्रेंस से संबोधित करते हुए उन्‍होंने कहा, ”युवाओं के बीच आने के लिए मैं हमेशा तैयार रहता हूं। इससे मुझे ऊर्जा मिलती है और मैं तरोताजा महसूस करता हूं। आप लोग जो ऊर्जा और आदर्शवाद लाते हैं वह अनुपम है। आप लोग स्‍मार्ट है जो मुझे केवल संबोधन के लिए बुलाया, गाने के लिए नहीं बुलाया। अगर मुझे गाने के लिए कहा जाता तो आप लोग अपना पैसा वापस मांगते और वो भी 100 रुपये के नोटों में।”

इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोबेल साहित्य पुरस्कार जीतने वाले गीतकार-गायक बॉब डिलन के प्रसिद्ध गाने ‘द टाइम्स दे आर अ-चेंजिंग’ की पंक्तियां उद्धृत करते हुए नोटबंदी के बाद देश में पैदा हुए राजनीतिक माहौल की तरफ भी परोक्ष इशारा किया। डिलन का यह गाना बदलाव का गीत माना जाता है। उन्‍होंने कहा कि आप जिस चीज को आप समझते नहीं है उसकी आलोचना मत किया करो। उन्‍होंने कहा, ”कम मदर्स एंड फादर्स, थ्रूआउट द लैंड, एंड डोंट क्रिटिसाइज, वाट यू कांट अंडरस्टैंड। योर सन एंड डॉटर्स, आर बियोंड योर कमांड। योर ओल्ड रोड इज रैपिडली एजिंग। प्लीज गेट आउट ऑफ न्यू वन इफ यू कांट लेंड योर हैंड, फोर द टाइम्स दे आर अ-चेजिंग।’’

मोदी बोले, ”बॉर्डर के उस पार की सफार्इ हो या कालेधन से भरी तिजोरी की सफाई हो। सब कुछ जोर शोर से चल रहा है। मुझे पूरा भरोसा है कि एक पीढ़ी के अंदर हम एक स्‍वच्‍छ भारत बनाएंगे। भारत एक नौजवान देश है और हमारा भविष्‍य आपकी च्‍वॉइस और कामों पर निर्भर करता है। उम्‍मीद है आप भी इस मौके का फायदा उठाएंगे। 2014 में मैंने न्यूयार्र्क के खूबसूरत सेंट्रल पार्क में ग्लोबल सिटीजन फेस्टिवल में शामिल होने का लुत्फ उठाया था। लेकिन इस बार मेरे कार्यक्रम ने मुझे व्यक्तिगत रूप से शामिल होने की इजाजत नहीं दी। मुझे पता है कि मैं आपके और कोल्डप्ले (संगीत बैंड) के बीच में खड़ा हूं और इसलिए आपका ज्यादा समय नहीं लूंगा।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 20, 2016 4:29 pm

  1. S
    Sidheswar Misra
    Nov 21, 2016 at 3:22 am
    गरीबो को जीवन यापन के लिए ही धन की जरुरत होती है। उद्योगपतियों ,बाबाओं नेतायो को बड़ी नॉट विदेशी गाड़ी बड़े बगलें
    Reply
    सबरंग