ताज़ा खबर
 

पुलिस ने साइबर ठगों का किया भंडाफोड़, अमेरिकी सैन्य अधिकारी बताकर लूटे थे 2 करोड़, 108 फर्जी खाते सीज

गैंग के एक सदस्य से कई फर्जी PAN कार्ड भी बरामद हुए हैं जिनके जरिए उन्होंने 108 फर्जी बैंक खाते भी खोल रखे थे।
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर। (Source: Agency)

मंबई पुलिस ने एक बड़े साइबर क्राइम का पर्दाफाश किया है। बांद्रा इलाके में रहने वाले एक वरिष्ठ नागरिक के साथ लगभग 2 करोड़ की रुपये की साइबर लूट के मामले में पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। पुलिस ने इस मामले में एक नाइजीरियन गैंग का पर्दाफाश किया है। टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक गैंग से कई फर्जी PAN कार्ड भी बरामद हुए हैं। इन फर्जी पैन कार्ड्स की मदद से गैंद ने 108 फर्जी बैंक खाते खोल रखे थे। पुलिस ने फर्जी पैन कार्ड रैकेट के सरगना को मीरा रोड स्थित के नया नगर इलाके से गिरफ्तार किया। पुलिस के मुताबिक, 72 वर्षीय बांद्रा निवासी से एक शख्स ने खुद अमेरिकी नागरिक बताकर उससे फेसबुक के जरिए दोस्ती की। अमेरिकी शख्स ने खुद को यूएम आर्मी अफसर बताया था और बताया था कि वह अफगानिस्तान में तैनात हैं।

शख्स ने बांद्रा निवासी को एक स्कीम का झासां देकर उससे 1.97 करोड़ रुपये ऐठ लिए। जांच में पुलिस ने मंगल बिश्नोई, अमित अग्रवाल, समीर मर्चेंट, जितेंद्र राठोड़ और परेश निस्बंध नाम के एक शख्स को गिरफ्तार किया है। बांद्रा निवासी ने इन्हीं लोगों के खातों में पैसे ट्रांस्फर किए थे। इनके खातों में ट्रांस्फर होने के बाद, पैसा निकाल लिया गया या फिर दूसरे फर्जी खातों मे ट्रांस्फर कर दिया गया था। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि जांच में पता चला कि खाता खुलवाने के लिए दिए गए पैन कार्ड फर्जी थे। मामले की आगे जांच में आरिफ शेख नाम के एक शख्स को भी गिरफ्तार किया। उसके पास से कई कागजात और 11 पैन कार्ड बरामद किए गए।

पुलिस ने सभी 108 फर्जी खातों को फ्रीज कर दिया है। इन खातों में लगभग 1 करोड़ रुपये की राशि है। पुलिस को शक है इस मामले का मास्टरमाइंड एक नाइजीरियन है। बांद्रा निवासी ने मार्च महीने में शिकायत दर्ज कराई थी। एक ठग ने खुद को अमेरिकी सेना अफसर बताकर उससे ठगी की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग