ताज़ा खबर
 

गदा की जगह पेन दिखाने पर शिवसेना का बवाल, आईआईटी से हटानी पड़ी हनुमान पेंटिंग

पेंटिंग इंडियन इंस्‍टीट्यूट ऑफ टेक्‍नॉलॉजी(आईआईटी) पवई में बनाई गई। यह पेंटिंग वहां पर चल रहे सालाना सांस्‍कृतिक कार्यक्रम मूड इंडिगो के तहत बनाई गई थी।
शिवसेना के नेता दत्‍ता दलवी ने बताया कि वह चित्र गलत संदेश दे रही थी। उससे कई लोगों की धार्मिक भावनाएं आहत हुई।

मुंबई में भगवान हनुमान की तरह दिखने वाली एक पेंटिंग को शिवसेना की आपत्ति के बाद हटाना पड़ा। पेंटिंग इंडियन इंस्‍टीट्यूट ऑफ टेक्‍नॉलॉजी(आईआईटी) पवई में बनाई गई। यह पेंटिंग वहां पर चल रहे सालाना सांस्‍कृतिक कार्यक्रम मूड इंडिगो के तहत बनाई गई थी। शिवसेना ने इस पर आपत्ति जताई और कार्यक्रम के आयोजकों से माफी मांगने को कहा। सोमवार (26 दिसंबर) को स्‍थानीय शिवसेना कार्यकर्ता कैंपस में आ गए और उन्‍होंने पेंटिंग को हटाने की मांग की। इसके बाद उसे मिटा दिया गया। इस पेंटिंग में एक शख्‍स एक हाथ से पहाड़ और दूसरे में गदा की जगह पेन लेकर जाता दिखाई दे रहा था।

शिवसेना के नेता दत्‍ता दलवी ने बताया कि वह चित्र गलत संदेश दे रही थी। उससे कई लोगों की धार्मिक भावनाएं आहत हुई। हनुमान जैसे हिंदू देवता को दिखाने का यह सही तरीका नहीं है। छात्रों को देवताओं को इस तरह प्रस्‍तुत नहीं करना चाहिए। इस घटना के बारे में आयोजकों ने चुप्‍पी साधे रखी लेकिन वहां पर फूड कोर्ट व विजिटर्स ने बताया कि पेंटिंग को लेकर काफी हंगामा भी हुआ। शिवसेना के स्‍थानीय शाखा प्रमुख निलेश सालुंखे ने कहा कि वे विवादित पेंटिंग के मुद्दे पर छात्रों से मिले थे। उन्‍होंने बताया, ”छात्रों ने हमें पेंटिंग बनाने वाले कलाकार को लेकर उल्‍टे सीधे जवाब दिए। उन्‍होंने कहा कि इसे छात्रों ने नहीं किसी कलाकार ने बनाई है। जब कलाकार का नाम पूछा तो नाम नहीं बताया।”

शिवसेना नेताओं ने बताया कि उन्‍हें इस पेंटिंग के बारे में उन्‍हें रविवार (25 दिसंबर) की शाम को पता चला। इसके बाद स्‍थानीय विधायक सुनील रावत के निर्देश पर शिवसेना कार्यकर्ता आईआईटी गए। स्‍टूडेंट कॉर्डिनेटर अखिल धूत ने माफी पत्र पर साइन किए। उन्‍होंने इस बारे में कुछ भी कहने से मना कर दिया हालांकि धूत ने इस घटना को छोटा सा मुद्दा बताया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Avi
    Dec 27, 2016 at 11:33 am
    ी कहा ... कलम में कोई ताकत नहीं है... देखिये न... नोट पर वचन दिया जाता है... यह कलम की ताकत है.. मोदी जी गुंडई (गदे) की ताकत से ... कलम की ताकत को ख़त्म कर देते हैं...
    (0)(0)
    Reply
    सबरंग