December 06, 2016

ताज़ा खबर

 

महाराष्ट्र: फडणवीस सरकार का तीसरा साल, नगर निकाय चुनाव बड़ी चुनौती

महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों में भाजपा के सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरने के साथ पार्टी ने शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाई थी।

Author मुंबई | October 30, 2016 17:57 pm
महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस। (PTI File Photo)

महाराष्ट्र में भाजपा नीत सरकार तीसरे वर्ष में प्रवेश करने जा रही है और सहयोगी घटक शिवसेना द्वारा जब-तब छींटाकशी एवं आरक्षण के लिए मराठा समुदाय के अभियान सहित कई आंतरिक एवं बाहरी चुनौतियों के बावजूद मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस की स्वच्छ छवि को सबसे अधिक सकारात्मक पहलू के तौर पर देखा जाता है। ज्यादातर राजनीतिक विश्लेषकों ने पिछले दो साल में इस सरकार के कामकाज को ‘मिला-जुला’ बताया। फडणवीस के नेक इरादों और विकास पर जोर दिए जाने के बावजूद उनकी टीम की ओर से उचित सहयोग एवं जोर की कमी के चलते मुख्यमंत्री के प्रयासों के अपेक्षित नतीजे सामने नहीं आए हैं। महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों में भाजपा के सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरने के साथ पार्टी ने शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाई थी और 46 वर्षीय फडणवीस ने 31 अक्तूबर, 2014 को शपथ ग्रहण की थी। कुछ मंत्रियों को भ्रष्टाचार के आरोपों का सामना करना पड़ा जिसमें मंत्रिमंडल में दूसरे स्थान पर रहे एकनाथ खड़से को त्यागपत्र देना पड़ा।

विपक्षी कांग्रेस और राकांपा ने हालांकि फडणवीस के व्यक्तिगत करिश्मे और बेदाग प्रतिष्ठा को मानने इनकार करते हुए उन पर आरोप लगाया है कि वह आरोपों का समाना कर रहे अपने कुछ सहयोगियों की रक्षा कर रहे हैं। समीक्षकों का कहना है कि फडणवीस के पक्ष में एक और अच्छी बात यह है कि उन्हें भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व का विश्वास प्राप्त है जो खडसे प्रकरण से साबित हो गया है। उन्होंने कहा कि हालांकि मंत्रालय में विनोद तावड़े और पंकजा मुंडे जैसे उनके कुछ सहयोगी मुख्यमंत्री पद की महत्वाकांक्षा रखते हैं लेकिन वे फडणवीस के लिए वास्तविक खतरा नहीं हैं।

जनसत्ता की पूरी टीम की तरफ से आप सबको दिवाली और धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएं

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 30, 2016 5:57 pm

सबरंग