December 10, 2016

ताज़ा खबर

 

लिएंडर पेस के संबंधों को लेकर रिया की याचिका हाई कोर्ट ने स्वीकार की

रिया और पेस अपनी 10 साल की बेटी के संरक्षण को लेकर कानूनी लड़ाई लड़ रहे हैं।

Author मुंबई | November 24, 2016 04:09 am
रिया पिल्लै और लिएंडर पेस ।

बंबई हाई कोर्ट ने रिया पिल्लै की याचिका स्वीकार कर ली है जिसमें टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस से उनके संबंधों पर सत्र अदालत के फैसले की समीक्षा किए जाने का आग्रह किया गया है । सत्र अदालत ने कहा था कि पेस के साथ रिया के लिव इन रिलेशन का मतलब यह नहीं है कि वह उनकी पत्नी हैं। हालांकि, न्यायमूर्ति ए. एम बदर ने एक परिवार अदालत में चल रही कार्यवाही को लेकर रिया को अंतरिम राहत देने से इनकार कर दिया। परिवार अदालत में रिया और पेस अपनी 10 साल की बेटी के संरक्षण को लेकर कानूनी लड़ाई लड़ रहे हैं।

पेस ने बेटी की देखरेख का पूर्ण अधिकार मांगा है, जबकि रिया ने कहा है कि बच्ची उनके साथ रहनी चाहिए। अभिनेता संजय दत्त से तलाक मांगने के बाद रिया ने पेस के साथ लिव इन रिलेशन में रहना शुरू कर दिया था। पेस ने अदालत में दावा किया कि रिया से उनकी शादी नहीं हुई है और इसलिए वह उनकी पत्नी नहीं है। इस तरह, वह उन्हें गुजारा भत्ता देने के उत्तरदायी नहीं हैं। हाई कोर्ट ने मंगलवार को रिया की याचिका को स्वीकार कर लिया, ताकि यह फैसला किया जा सके कि पेस के साथ रिया के संबंधों को पति-पत्नी का संबंध माना जा सकता है या नहीं। रिया ने मजिस्ट्रेट अदालत में पेस और उनके पिता के खिलाफ घरेलू हिंसा का मामला दर्ज कराया था। इसने व्यवस्था दी थी कि हालांकि युगल विवाहित नहीं है, लेकिन पेस के साथ रिया पत्नी की तरह रह रही थी और इसलिए मामले को इस अदालत द्वारा देखा जा सकता।

हालांकि, पेस ने इस आदेश को सत्र अदालत में चुनौती देते हुए कहा कि रिया के साथ उनका संबंध शादी की प्रकृति का लिव इन रिलेशन नहीं था। सत्र अदालत ने नवंबर 2015 में पेस के पक्ष में फैसला सुनाया। रिया सत्र अदालत के फैसले के खिलाफ हाई कोर्ट चली गईं। पेस की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता आबाद पोंडा ने रिया की याचिका का विरोध किया और कहा कि परिवार अदालत में चल रही कार्यवाही पर स्थगन नहीं दिया जाना चाहिए। हाई कोर्ट ने रिया की याचिका को स्वीकार कर लिया, लेकिन परिवार अदालत में चल रही कार्यवाही पर स्थगन देने से इनकार कर दिया। इस साल जून में हाई कोर्ट ने युगल से कहा था कि वे एक साथ बैठें और अपने विवाद का सौहार्दपूर्ण समाधान निकालें। हालांकि, वे समझौता करने में विफल रहे।

 

प्रेस से एटीएम तक: जानिए कैसे सफर करता है आपका पैसा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 24, 2016 4:09 am

सबरंग