May 28, 2017

ताज़ा खबर

 

महाराष्‍ट्र निकाय चुनावों में भाजपा को बड़ी कामयाबी, 52 नगर परिषदों पर कब्‍जा, 851 नगर पंचायत सदस्‍य भी जीते

महाराष्‍ट्र के नगर निकाय चुनावों में भाजपा ने कांग्रेस और राष्‍ट्रवादी कांग्रेस पार्टी(एनसीपी) को झटका देते हुए बड़ी कामयाबी हासिल की।

Author November 29, 2016 08:49 am
मुंबई में एक कार्यक्रम के दौरान महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे। (Express photo by Ganesh Shirsekar)

महाराष्‍ट्र के नगर निकाय चुनावों में भाजपा ने कांग्रेस और राष्‍ट्रवादी कांग्रेस पार्टी(एनसीपी) को झटका देते हुए बड़ी कामयाबी हासिल की। 147 नगर परिषद के चुनावों में भाजपा को 52 सीट, शिवसेना को 23, कांग्रेस को 19 और एनसीपी को 16 पर जीत मिली है। अन्‍य उम्‍मीदवारों के खाते में 28 सीटें गर्इ हैं। वहीं 17 नगर पंचायतों के 3510 सदस्‍यों के लिए हुए चुनाव में सत्‍ताधारी भाजपा को 851 सीटें मिली हैं। कांग्रेस के खाते में 643, एनसीपी को 638 और शिवसेना को 514, मनसे को 16, सीपीएम को 12, बसपा को 9, निर्दलीयों को 324, स्‍थानीय गठबंधनों को 384 और बाकियों को 119 सीटों पर जीत मिली है। पांच साल पहले साल 2011 में 147 नगर परिषदों में से 127 में भाजपा कहीं नहीं थी। वहीं नगर पंचायतों में उसे केवल 298 सीट मिली थी जबकि एनसीपी को 916, कांग्रेस को 771 और शिवसेना को 264 पर जीत मिली थी।

भाजपा के पक्ष में नतीजे आने की शुरूआत के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विजय को गरीब समर्थक और भाजपा की विकास राजनीति की जीत बताया। भाजपा के प्रदर्शन का संज्ञान लेने हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और राज्य भाजपा अध्यक्ष रावसाहेब दानवे के ‘‘जमीनी स्तर पर कार्य’’ के लिए सराहना की। मोदी ने कहा, ‘‘मैं भाजपा कार्यकर्ताओं, मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, राव साहेब दानवे की सराहना करता हूं। उनके जमीनी स्तर के काम से लोगों ने भाजपा में अपना बहुमूल्य भरोसा जताया है। मैं स्थानीय चुनावों में भाजपा में अपना भरोसा जताने के लिए महाराष्ट्र के लोगों का शुक्रिया अदा करता हूं। यह गरीब समर्थक और भाजपा की विकास राजनीति की जीत है।’’

इन चुनावों से पहले सभी पार्टियों ने इन्‍हें मिनी विधानसभा चुनाव करार दिया था। भाजपा इस जीत को नोटबंदी पर जनता की मुहर भी बता रही है। महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने कहा, ”नतीजे… सरकार के नोटबंदी के जरिए भ्रष्‍टाचार को खत्‍म करने की मुहिम को समर्थन है। कांग्रेस-एनसीपी का नोटबंदी के खिलाफ अभियान नाकाम रहा।” वहीं महाराष्‍ट्र कांग्रेस के अध्‍यक्ष अशोक चव्‍हाण ने भाजपा पर धनबल और बाहुबल का आरोप लगाया। हालांकि उन्होंने कहा कि नतीजों का विश्‍लेषण किया जाएगा।”

Speed News: जानिए दिन भर की पांच बड़ी खबरें:

NIA ने अल-कायदा के तीन संदिग्ध सदस्यों को गिरफ्तार किया; पीएम मोदी को मारने की बना रहे थे योजना:

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 29, 2016 8:12 am

  1. D
    Dev Verma
    Nov 29, 2016 at 4:40 pm
    उद्धव ठाकरे अगर चुल्लू भर पन्नी मिले तो डूब मरो रोज कुते की तरह भौन्क रहे थे, फट गयी अब.
    Reply
    1. M
      madan gupta
      Nov 29, 2016 at 2:56 am
      Hon. Readers, The ICICI bank Mumbai is not returning my FCNR money. Your help will be appreciated. Madan GuptaNRI USA
      Reply
      1. S
        sanjay
        Nov 29, 2016 at 7:55 am
        कांग्रेस ने चिरकाल तक शासन जातीवाद,भाषावाद,वोटबैंक,साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण,सब्सिडी,राशन,दाल,चांवल केरोसिन,बांटकर जनसंख्या व्रद्धि आदि की शतरंज की चाल बिछाकर शासन किया,जबकि मोदीजी इन सभी कुरूतियो से हटकर देश को विकास के माध्यम से नई राह प्रदान करने में अपना समय दिन रात खफा रहे है!यदि कांग्रेस भी देश को विकास की राह दिखाती तो आज देश हर समस्या से मुक्त होकर चीन अमेरिका जापान फ्रांस की तरह विकसित राष्ट्र होता!सत्ता को कायम रखने के लिए मोदीजी ने सबका साथ सबका विकास की आधारशिला रखी!
        Reply
        1. S
          sanjay
          Nov 29, 2016 at 7:34 am
          कांग्रेस वोटबैंक के ारे अपनी तक़दीर बीते ७०सालो से संवार रही थी,जबकि यह वोटबैंक कांग्रेस से दूर होकर क्षेत्रीय पार्टियो के पाले में बीते ३०सालो से जा रहा है,लेकिन इससे भी कांग्रेस को फर्क महसूस नहीं हुआ क्योकि केंद्र में यह क्षेत्रीय दल कांग्रेस को समर्थन देते थे,जब यह बात जनता को समझ में आई तब उन्होंने मई २०१४ में कांग्रेस समेत सभी क्षेत्रीय दल को किनारे लगा दिया!अभी भी कांग्रेस बीजेपी को हराने में अपनी कामयाबी देख रही है तो वह अपनी म्रत्यु सया स्वम बना रही है!चुनाव परिणाम इसी बात का संकेत है
          Reply

          सबरंग