May 23, 2017

ताज़ा खबर

 

18 साल के इस लड़के को थी 7 इंच लंबी पूंछ, बैठने और सोने में भी होता था दर्द, 6 डॉक्टर्स की टीम ने सर्जरी से हटाया

इसका साइज लगातार बढ़ रहा था जिस वजह से पिछले कुछ समय से लड़के को उठने, बैठने और सोने में भी दिक्कत हो रही थी।

लड़के के पीछे यह पूंछ बचपन से निकली हुई थी, लेकिन परिजनों ने इसे गंभीर बीमारी ना समझते हुए इग्नोर कर दिया था।

क्या आपने कभी भी सुना या देखा है कि किसी इंसान को पूंछ निकल आई हो। महाराष्ट्र के नागपुर में ऐसा ही एक मामला सामने आया है, जहां 18 साल के लड़के के पीछे 7 इंच लंबी पूंछ निकल आई थी। न्यूरो सर्जन की एक टीम ने सर्जरी के बाद इस पूंछ को हटाया है। लड़के ने लंबे समय तक पूंछ के बारे में सबसे छुपाकर रखा था। लेकिन इसका साइज लगातार बढ़ रहा था जिस वजह से पिछले कुछ समय से लड़के को उठने, बैठने और सोने में भी दिक्कत हो रही थी।

जानकारी के मुताबिक, लड़के के पीछे यह पूंछ बचपन से निकली हुई थी, लेकिन परिजनों ने इसे गंभीर बीमारी ना समझते हुए इग्नोर कर दिया था। हालांकि जैसे-जैसे लड़का बड़ा हुआ पूंछ भी बड़ी होती गई। 18 साल का होते-होते यह पूंछ भी 7 इंच की हो गई, जिस वजह से लड़के को कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था। डॉक्टरों से संपर्क करने पर पता लगा कि अगर यह पूंछ यूं ही बढ़ती रही तो उसके निचले हिस्से में समस्या हो सकती है। इस हफ्ते छह डॉक्‍टरों की एक टीम ने एक घंटे चले ऑपरेशन के बाद लड़के की रीढ़ की हड्डी से पूंछ को सवाधानी पूर्वक अलग कर दिया। ऑपरेशन से पहले लड़के ने अपनी कमर मे दर्द की शिकायत की थी।

सुपर स्पेशल्टी हॉस्पिटल में न्यूरोसर्जरी डिपार्टमेंट के हेड प्रमोद गिरी ने बताया, “यह अपनी तरह का पहला मामला है। हमने इससे पहले कभी भी ऐसी सर्जरी नहीं की थी। उसको पिछले कई सालों से यह पूंछ थी, जो लगातार ग्रोथ कर रही थी। उसे हाल ही में इससे दिक्कत होने लगी थी, इसलिए उसने डॉक्टर्स से संपर्क किया। युवक पिछले कुछ समय के पीठ के बल सो भी नहीं पा रहा था, लेकिन अब वह ऐसा कर सकता है। वह काफी खुश है।” नीचे देखें वीडियो:

Read Also: राजस्थान में हुआ दो सिर वाले बच्चे का जन्म, 32 घंटे बाद ही हो गई मौत

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 7, 2016 10:25 am

  1. No Comments.

सबरंग