ताज़ा खबर
 

महाराष्ट्र पुलिस को मिलेगी बीफ डिटेक्शन किट, आधे घंटे में पता चल जाएगा सैम्पल गौ-मांस है या नहीं

हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के मुताबिक फॉरेन्सिक साइन्स लैब (एफएसएल) के डायरेक्टर कृष्णा कुलकर्णी ने इसकी पुष्टि की है।
प्रतीकात्मक फोटो। (Source: AP Photo)

महाराष्ट्र पुलिस को जल्द ही मीट डिटेक्शन किट मिलने जा रही हैं। इसके जरिए पुलिस मजह आधे घंटे के अंदर ही मीट की जांच कर यह पता लगा सकेगी कि मीट सैम्पल बीफ का है या नहीं। हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के मुताबिक यह जानकारी सामने आ रही है। यह किट साइज में किसी प्रेग्नेंसी किट जितनी ही छोटी होगी। इस किट के जरिए पुलिस को यह पता लगा सकेगी कि मीट गाय का है या नहीं। किट के जरिए सैम्पल की जांच घटना स्थल पर भी हो सकेगी। एचटी की खबर के मुताबिक फॉरेन्सिक साइन्स लैब (एफएसएल) के डायरेक्टर कृष्णा कुलकर्णी ने इसकी पुष्टि की है। खबर के मुताबिक एक सिंगल किट के जरिए 100 सैम्पलों की जांच हो सकेगी।

एक किट की कीमत 8 हजार रुपये होगी। पुलिस ने अभी 45 किटों के ऑर्डर दिए हैं। किट मीट में मौजूद प्रोटीन के जरिए पता लगाएगी कि सैम्पल गाय का है या नहीं। सैम्पल पॉजिटिव पाए जाने पर उसे आगे जांच के लिए लैब भेजा जाएगा। वहीं मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक लगभग 100 पुलिस अफसरों को इस किट का इस्तेमाल करने की ट्रेनिंग दी जाएगी। एंटी-बीफ यूनिट में किट का इस्तेमाल करने के लिए उन अफसरों को चुना जाएगा जिनकी एजुकेशन क्वालिफिकेशन साइन्स स्ट्रीम की होगी। बता दें महाराष्ट्र ऐनिमल प्रेसर्वेशन ऐक्ट, 2015 के तहत राज्य में गौ-मांस की बिक्री या ट्रांस्पोर्ट पर पाबंदी है। गौ-मांस बेचने या रखने पर भारी जुर्माने से लेकर पांच साल तक की सजा का प्रावधान है।

गौरतलब है देशभर में गौ-तस्करी और गौ-मांस खाने की अफवाह के चलते भीड़ द्वारा पीट-पीट कर हत्या करने के कई मामले सामने आए हैं। महाराष्ट्र पुलिस ने हाल ही में कहा था कि गौ-रक्षा के नाम पर लोगों को कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं है। वहीं बीते हफ्ते पुलिस ने गोवंदी इलाके में एक टेम्पो से 700 किलोग्राम मीट बरामद किया था जिसकी जांच रिपोर्ट आना बाकी है। ऐसे ही अप्रैल महीने में पुलिस ने धारावी में रेड कर 6.5 टन गाय और बैल का मांस बरामद किया था। इस मामले में पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार किया। उम्मीद की जा रही है कि गौ-मांस से जुड़े ऐसे ही मामलों में पुलिस की मदद करने में यह किट काफी कारगर साबित होगी।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग