ताज़ा खबर
 

“देश में ऐसा माहौल है कि अगर पतंजलि का फेशवॉश नहीं लगाया तो ठहरा दिया जाएगा राष्ट्रविरोधी”

कन्हैया कुमार का कहना है कि बाबासाहब ने ऐसा संविधान तैयार किया कि इसमें समाज के हर सदस्य को कई प्रकार से आजादी मुहैया कराई गई है। लेकिन संविधान में निहित आजादी समाज के एक बड़े हिस्से को नहीं मिल सकी है।
कन्हैया कुमार ने डॉ. बीआर आंबेडकर की जयंती के एक दिन पहले अपनी हिंदी किताब के मराठी संस्करण ‘‘बिहार से तिहाड़’’ का विमोचन किया।

छात्र नेता कन्हैया कुमार ने नागपुर में गुरुवार को कहा कि समाज के कई तबके ‘‘भय के माहौल’’ में रह रहे हैं और मौजूदा परिदृश्य में पतंजलि ब्रांड का फेस वाश नहीं लगाने के लिए भी किसी को ‘‘राष्ट्रविरोधी’’ ठहराया जा सकता है। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कुमार ने कहा, ‘‘देश में अभी भय का ऐसा माहौल है कि अगर आप पतंजलि का फेस वाश इस्तेमाल नहीं करते तो आप राष्ट्रविरोधी कहे जाएंगे।’’

उल्लेखनीय है कि पतंजलि आयुर्वेद कंपनी योगगुरू बाबा रामदेव द्वारा शुरू की गई एफएमसीजी कंपनी है। वह डॉ. बीआर आंबेडकर की जयंती के एक दिन पहले अपनी हिंदी किताब के मराठी संस्करण ‘‘बिहार से तिहाड़’’ का विमोचन कर रहे थे। कुमार ने कहा कि बाबासाहब ने ऐसा संविधान तैयार किया कि इसमें समाज के हर सदस्य को कई प्रकार से आजादी मुहैया कराई गई है। लेकिन संविधान में निहित आजादी समाज के एक बड़े हिस्से को नहीं मिल सकी है।

उन्होंने दावा किया कि मौजूदा परिदृश्य में, ‘‘गरीब, दलित, महिलाएं, आदिवासी, पिछडे वर्ग, अल्पसंख्यक और यहां तक कि बुद्धिजीवी सहित समाज के विभिन्न तबके भय में रहते हैं।’’ कुमार ने कहा कि हाल ही में फीस में वृद्धि का विरोध करने पर पंजाब विश्वविद्यालय के 68 छात्रों के खिलाफ राजद्रोह का मामला दर्ज किया गया। उन्होंने कहा, ‘‘देश का मौजूदा परिदृश्य ऐसा है कि अगर आप फीस में कमी किए जाने की मांग करते हैं तो आपको राष्ट्रविरोधी ठहरा दिया जाएगा।’’ इसपर कुछ आलोचकों का कहना है कि कन्हैया एक बार फिर से देश के युवाओं को उकसा रहे हैं।

बता दें कि इससे पहले जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी के छात्र कन्हैया कुमार ने मंगलवार को दिल्ली यूनिवर्सिटी में एबीवीपी के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन में हिस्सा लिया। प्रदर्शन में उन्होंने ‘अहिंसा’ की मांग की। इस दौरान एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने ‘गो बैक कन्हैया’ के नारे लगाए। कन्हैया कुमार देशद्रोह के मामले में अभी जमानत पर रिहा हैं। बता दें, 12 फरवरी को रामजस कॉलेज में हुए हिंसक झड़प के विरोध में एबीवीपी के खिलाफ दिल्ली की कई यूनिवर्सिटीज के छात्रों और अध्यपकों ने मार्च प्रदर्शन किया। 22 फरवरी को हिंसक झड़प जेएनयू छात्र उमर खालिद और शेहला राशिद के सेमिनार के रद्द किए जाने की वजह से हुई थीं।

कन्हैया कुमार पर देशद्रोह के आरोप साबित करने में नाकाम रही दिल्ली पुलिस; एक साल बाद भी सबूतों की कमी, देखें वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. M
    manish agrawal
    Apr 13, 2017 at 10:44 pm
    yadi nikammi Delhi Police, Kanhaiya Kumar ke khilaaph saboot nahi jutaa paa rahi to ye case CBI ko kyu nahi diya jaa raha? Delhi ek Union territory hai aur Lt.Governor CBI investigation recommend kar sakte hain, Home Ministry khud bhi cognizance lekar CBI investigation order kar sakti hai. lekin lagtaa hai ki BJP leaders ko sirf election ke liye rallies aur speech dene main hi mazaa aataa hai baaki deshbhakti ke bade bade daave karne walon ko Kanhaiya Kumar jese deshdrohi ka yu khule-aam ghoomnaa kese hazam ho raha hai ? lagtaa hai BJP ke liye desh-bhakti sirf naara hai aur kuchh nahi. yadi deshdrohi aise hi azaad ghoomte rahe to kya laabh hai VANDE MATRAM ke naare lagwaane ka ! yadi military ke jawans bhi sirf Jai Hind ke naare lagaate rahe aur firing na karen, to kya desh ki rakshaa ho paayegi?
    (0)(0)
    Reply
    1. M
      manish agrawal
      Apr 13, 2017 at 10:26 pm
      Dhikkar hai centre ki BJP govt ko, jo Delhi Police control main hone ke baabzood Kanhaiya Kumar ke khilaaph Deshdroh ke aarop saabit nahi kar paa rahi.Deshdrohi Kanhaiya Kumar khule-aam ghoom raha hai aur apni book bhi publish karwaa raha hai.yadi court ne usko jamaanat de di hai to iski jamaanat cancel karaane ki karwaai kyu nahi ki i? kitne sharm ki baat hai ki Kashmir main hamaari military ke jawans aur officers desh ki ekta aur akhandtaa ki rakshaa ke liye apni jaan kurbaan kar rahe hain aur centre ki BJP govt, desh-drohi naare lagaane walon ke khilaaph koyi effective karwaai nahi kar paa rahi ! Home Ministry ko chullu bhar paani main doov marna chahiye.
      (0)(0)
      Reply
      1. I
        IMRANKHAN
        Apr 13, 2017 at 10:00 pm
        I love kanhiya Kumar
        (0)(0)
        Reply
        सबरंग