ताज़ा खबर
 

पुणे-अहमदाबाद हाईवे पर ले जा रहे थे चार टन बीफ, गौसेवकों की सूचना पर पुलिस ने नौ लोगों को रंगे हाथ दबोचा

महाराष्ट्र में गोमांस और बैल के मांस के उत्पादन या ट्रांसपोर्टेशन पर पूर्णत: प्रतिबंध है। हालांकि, भैंस के मांस पर इस तरह का कोई प्रतिबंध नहीं है।
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

महाराष्ट्र पुलिस ने बीफ ले जाने के शक में पुणे-अहमदाबाद हाईवे पर रंजनगांव के पास से नौ लोगों को गिरफ्तार किया है। उनके पास से चार टन गोमांस बरामद हुआ है। पुणे की ग्रामीण पुलिस ने रविवार (16 जुलाई) को तड़के सभी नौ लोगों को शक के आधार पर हिरासत में लिया, फिर बाद में उन्हें गिरफ्तार कर लिया। टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक पशुपालन अधिकारी आर डी यादव ने उस मांस के बीफ होने की पुष्टि की है। पुलिस ने उसे बरामद कर फॉरेंसिक जांच के लिए भेज दिया है ताकि पता लगाया जा सके कि बीफ गोमांस है या भैंस का मांस या फिर बैल का मांस।

बता दें कि महाराष्ट्र में गोमांस और बैल के मांस के उत्पादन या ट्रांसपोर्टेशन पर पूर्णत: प्रतिबंध है। हालांकि, भैंस के मांस पर इस तरह का कोई प्रतिबंध नहीं है। रंजनगांव के पुलिस जांच अधिकारी के मुताबिक जिन नौ लोगों के गोमांस के शक में गिरफ्तार किया गया है, उनके पास इस तरह का काम करने का ना तो लाइसेंस है और ना ही परमिट। इसी वजह से उन्हें गिरफ्तार किया गया है।

पुलिस को उन लोगों ने बताया कि मांस मुंबई से लाया जा रहा था और उसे बीड पहुंचाया जाना था। पुलिस अधिकारी ने बताया कि उन्हें अखिल भारतीय कृषि गौ सेवा संघ के कार्यकर्ताओं ने फोन कर दो गाड़ियों के बारे में सूचना दी थी कि उनमें गोमांस ले जाया जा रहा है। इनमें से एक मिनी ट्रक था जबकि दूसरा पिक अप वैन था। इस सूचना के आधार पर पुलिस ने उनका पीछा करते हुए सभी नौ लोगों को धर दबोचा।

बता दें कि पांच दिन पहले 12 जुलाई को नागपुर में गोरक्षकों ने बीफ ढोने के शक में एक मुस्लिम शख्स सलीम शाहा की पिटायी कर दी थी। सलीम शाहा (34) नागपुर में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चे का सदस्य था। पुलिस अधीक्षक (नागपुर देहात) शैलेश बल्कावड़े ने बताया कि प्रयोगशाला की रिपोर्ट में इसकी पुष्टि हुई है कि सलीम शाहा के पास से बरामद मीट बीफ ही था। उन्होंने बताया कि कानून के मुताबिक पुलिस शाह के खिलाफ कार्रवाई शुरू करेगी। बीफ की जानकारी मिलते ही बीजेपी ने सलीम को अल्पसंख्यक मोर्चे के सदस्य के पद से हटा दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.