June 23, 2017

ताज़ा खबर
 

कश्‍मीर के पत्‍थरबाजों से निपटने के लिए सेना बनाना चाहते हैं मध्‍य प्रदेश के आदिवासी, पीएम मोदी को लिखा पत्र

यह युवा समूह सेना में एक 'गोफन बटालियन' भी स्‍थापित कराना चाहता है।

हाल के दिनों में सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी की घटनाओं में इजाफा देखने को मिला है।

मध्‍य प्रदेश का एक आदिवासी समूह कश्मीर के पत्थरबाजों से निपटने के लिए अपनी एक सेना तैयार करना चाहता है। सेना बनाने के इस विषय को लेकर इस सूमह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा है। भील समुदाय के युवा अपने पारंपरिक हथियार ‘गोफन’ के जरिए पत्‍थरबाजों को सबक सिखाना चाहते हैं। हिंदुस्‍तान टाइम्‍स की रिपोर्ट के अनुसार, झाबुला जिले के इन आदिवासी युवाओं का कहना है कि वे हाल के दिनों में कश्‍मीर में पत्‍थरबाजों के आगे ‘बेबस’ सुरक्षा बलों की तस्‍वीरें और वीडियो देखकर चिंतित हैं। उनमें से एक ने अखबार से कहा, ”हम उन्‍हें करारा जवाब देना चाहते हैं। हम उन्हें पत्‍थर का जवाब पत्‍थर से देंगे।

यह युवा समूह सेना में एक ‘गोफन बटालियन’ भी स्‍थापित कराना चाहता है। गोफन गुलेल की तरह दिखने वाला हथियार होता है, जिसमें रस्‍सी को एक हाथ में पकड़ते हैं जिसके बीच में कपड़े, रबड़ में लिपटा हुआ पत्‍थर होता है। इस्‍तेमाल करने वाला रस्‍सी को नचाता है और जब यह पर्याप्‍त रफ्तार हासिल कर लेता है तो रस्‍सी का एक सिरा छोड़ दिया जाता है। पत्‍थर बेहद तेज रफ्तार से उड़ता हुए निशाने पर जा लगता है। इसका इस्‍तेमाल आमतौर पर शिकार और रक्षा के लिए किया जाता है।

एक स्थानीय निवासी ने कहा कि हमारा खून गरम हो जाता है, जब हम यह देखते हैं कि कैसे कश्मीरी युवा हमारे जवानों पर पत्थरबाजी कर हमला कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हम टीवी और सोशल मीडिया पर देखते हैं कि पत्थरबाजों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए सेना कितनी मजबूर है। हाथ में बंदूक होते हुए भी सेना उन्हें गोली नहीं मारती। इस सबको देखते हुए 100 युवाओं का एक समूह बना है जो कि अपनी बटालियन बनाकर इन पत्थरबाजों के खिलाफ लड़ना चाहता है। इस मामले पर गंभीरता दिखाते हुए इन युवाओं ने जिला कलेक्टर से मुलाकात कर प्रधानमंत्री को अपने द्वारा लिखा हुआ पत्र सौंपा है। युवाओं ने कहा कि हमें एक मौका मिला है कि हम अपने देश के लिए कुछ करें  और यह मौका हम हाथ से नहीं जाने दे सकते।

देखिए वीडियो - गृह मंत्री राजनाथ सिंह की सभी राज्यों से अपील- "कश्मीरी नवयुवकों की सुरक्षा सुनिश्चित की जाए"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on April 21, 2017 3:32 pm

  1. No Comments.
सबरंग