ताज़ा खबर
 

जेल की दीवार में कैदियों ने किया बड़ा छेद, सुबह की गिनती से पहले ही दो कैदी फरार, चार प्रहरी सस्पेंड

जेल प्रशासन ने कैदियों के फरार होने के मामले में चार प्रहरियों ब्रजेंद्र परमार, फूलसिंह कुशवाह, राम अवतार और दाताराम को निलंबित कर दिया है।
जेल की सांकेतिक तस्वीर

मध्य प्रदेश में फिर जेल ब्रेक कांड हुआ है। राज्य के मुरैना जिला जेल से सोमवार को दो कैदी जेल की दीवार में छेद करके फरार हो गए। कैदियों के नाम ओमप्रकाश जाट और अनिल धनेला है। ये दोनों कैदी हत्या, लूट और दुष्कर्म के मामलों में जेल में कैद थे। बताया जा रहा है कि ये दोनों कैदी जेल में कैदियों की होने वाली गिनती से पहले ही फरार हो गए थे। जेल प्रशासन ने जब इन दोनों कैदियों की खोज की तो उन्हें जेल की दीवार में बड़ा छेद दिखा। इसके बाद जेल प्रशासन ने पुलिस को सूचना दी। घटना के बाद पुलिस भागे हुए कैदियों की तलाश में जुट गई है। वहीं इस मामले में जेल प्रशासन पर भी लापरवाही के सवाल उठने लगे हैं।

जेल प्रशासन ने कैदियों के फरार होने के मामले में चार प्रहरियों ब्रजेंद्र परमार, फूलसिंह कुशवाह, राम अवतार और दाताराम को निलंबित कर दिया है। जानकारी में पता चला है कि जेल की दीवार में काफी बड़ा छेद था। अनुमान लगाया जा रहा है कि कैदियों को जेल की दीवार में छेद करने के लिए काफी दिनों का समय लगा होगा। आपको बता दें कि इस बीच बैरकों की चेकिंग नहीं की गई है।

गौरतलब है कि पिछले साल अक्टूबर महीने में भोपाल सेंट्रल जेल से सिमी के 8 आतंकी जेल से फरार हो गए थे। वहीं इसी तरह का मामला पिछले साल नवंबर महीने में भी देखने को मिला था। जिसमें नाभा जेल से 6 कैदी फरार हो गए थे। हालांकि, नाभा जेल मामले में 12 फरवरी को मास्टरमाइंड सहित चार गैंगस्टरों को गिरफ्तार किया जा चुका है। बता दें कि जेल से कैदियों के फरार होने के मामले में सख्ती बरतते हुए सरकार ने सभी जेल प्रशासन को निर्देश दिया था कि कैदियों को मिलने वाले सामान पर नियम सख्त कर दिए जाएं। इसके बावजूद भी इस तरह के मामले देखने को मिल रहे हैं।

देखिए वीडियो - मध्य प्रदेश: जिन्न का नहीं स्कूल टीचर का था बच्चा, छात्रा और परिजन बता रहे थे जिन्न की संतान

ये वीडियो भी देखिए - उपहार अग्निकांड: सुप्रीम कोर्ट ने गोपाल अंसल को 1 साल जेल की सजा सुनाई

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.