ताज़ा खबर
 

एक तोते का इंसान के लिए अटूट प्रेम, दिनभर आसमान में उड़कर वापस पहुंचता है अपनी इंसानी मां के पास

उन्होंने कहा कि कहीं बाजार जाना हो या किसी शादी समारोह में जाना हो उनका तोता आजाद उनके कंधे पर बैठकर उनके साथ जाता है।
अपने तोते आजाद के साथ मुन्नी बाई।

इन्सानों के साथ जानवरों का प्यार तो अक्सर देखा ही जाता है। कहीं कोई अपने घर में कुत्तों को पालता है, तो कोई बिल्लियों को पालता है, तो वहीं कोई बकरी, गाय और भैंसो को पालता है। कई लोग पक्षी भी पालते हैं और सबसे ज्यादा लोग तोता पालते हैं। जो लोग तोता पालते हैं वह उसे पिंजरे में बंद करके रखते हैं। पिंजरे में बंद रहकर उसकी आजादी छिन जाती है तो वह एक आजाद पक्षी से सिर्फ एक पालतू और बंधुआ तोता बनकर रह जाता है लेकिन देश में एक जगह ऐसी भी है जहां पर तोते और इन्सान का अनोखा प्यार देखने को मिला है। यह तोता दिनभर आसमान की खूली हवा में उड़ता तो है लेकिन दिन ढलने के बाद वह अपनी इन्सानी मां के पास वापस आ जाता है।

यह मामाला मध्य प्रदेश के दमोह का है जहां पर मुन्नी बाई नाम की महिला के साथ एक तोता रहता है। इस तोते का नाम इन्होंने आजाद रखा हुआ है। मुन्नी बाई का कहना है कि हम दोनों में बिलकुल मां-बेटे जैसा प्यार है। उन्होंने कहा कि यह सारा दिन आसमान में घूमता रहता है और जैसे ही दिन ढलता है तो यह वापस मेरे पास आ जाता है। उन्होंने बताया कि अगर इसे आसमान में घूमने के लिए नहीं जाना होता है तो यह हमेशा मेरे कंधे पर बैठा रहता है। मुन्नी बाई ने बताया कि यह तोता उनके साथ तीन सालों से रह रहा है। उन्होंने कहा कि कहीं बाजार जाना हो या किसी शादी समारोह में जाना हो उनका तोता आजाद उनके कंधे पर बैठकर उनके साथ जाता है।

मुन्नी बाई जब मंगलवार को जिला अस्पताल दवाई लेने के लिए गईं तो भी इनका आजाद इनके साथ था। मुन्नी बाई और उनके तोते आजाद के बीच का रिश्ता दर्शाता है कि दोनों में बहुत ही अटूट प्रेम है। तोते का इन्सानी प्यार देखकर साफ दिखाई देता है पक्षी भी प्यार के भूखे होते हैं। उन्हें कोई प्यार देगा तो वह उसे दोगुना प्यार देते हैं।

देखिए वीडियो - भोपाल: भाजपा नेता सुशील वासवानी के घर और व्यावसायिक ठिकानों पर आयकर विभाग के छापे

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग