December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

आतंकवादी मामलों की सुनवाई के लिए बनें फास्ट ट्रैक अदालतें: चौहान

विपक्ष और पीड़ितों के परिजनों ने इस कथित ‘एनकाउंटर’ में पुलिस की भूमिका पर सवाल उठाए हैं।

Author भोपाल | November 3, 2016 04:32 am
मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान। ( file picture)

आतंकवाद के मामलों की सुनवाई के लिए फास्ट ट्रैक अदालतों की वकालत करते हुए मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को कहा कि सजा सुनाए जाने से पहले आरोपी सालों तक जेल में रहते हैं और वहां चिकन-बिरयानी खाते हैं। उन्होंने कथित मुठभेड़ में सिमी के आठ कार्यकर्ताओं को मारे जाने में पुलिस की भूमिका का बचाव किया।

मध्य प्रदेश के 61वें स्थापना दिवस के अवसर पर मंगलवार देर रात राजधानी में आयोजित एक समारोह में चौहान ने कहा कि उन्हें सजा देने में सालों लगते हैं। वे जेल में चिकन बिरयानी खाते रहते हैं। वे भागते हैं और अपराधों व हमलों में शामिल होते हैं। अगर हमारे यहां भ्रष्टाचार के मामलों को लेकर फास्ट ट्रैक अदालतें हो सकती हैं तो आतंकवादियों को सजा देने के लिए फास्ट ट्रैक अदालतें क्यों नहीं हो सकतीं?

हिंदू और मुस्लिम शरणार्थियों पर बोले भाजपा नेता हिमंत बिस्व सरमा; कहा- “धार्मिक आधार पर बंटवारा करना हमारी पार्टी की नीति”

चौहान ने बुधवार को भोपाल केंद्रीय जेल का दौरा कर अधिकारियों को यहां की सुरक्षा व्यवस्था सख्त करने के निर्देश दिए। इस दौरान उनके साथ प्रदेश के मुख्य सचिव बीपी सिंह, पुलिस महानिदेशक ऋषि कुमार शुक्ला, प्रदेश के जेल महानिदेशक संजय चौधरी भी मौजूद थे। इस जेल से सोमवार रात सिमी से जुड़े आठ कैदी जेल के एक सिपाही की हत्या करने के बाद फरार हो गए थे। इसके कुछ घंटों बाद ही भोपाल पुलिस ने शहर से लगभग 10 किलोमीटर दूर मणिखेड़ा पठार के पास कथित मुठभेड़ में इन्हें मार गिराया था।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 3, 2016 4:30 am

सबरंग