ताज़ा खबर
 

नरेंद्र मोदी के भाई प्रहलाद ने कहा- तेली समाज अपने नाम के आगे मोदी लगाए

प्रहलाद मोदी अहमदाबाद में ही रहते हैं। वे राशन की दुकान चलाते हैं और ऑल इंडिया फेयर प्राइस शॉप फेडरेशन के उपाध्‍यक्ष भी हैं।
धानमंत्री नरेंद्र मोदी के छोटे भार्इ प्रहलाद मोदी ने रविवार को एक कार्यक्रम के दौरान अपने समुदाय से कहा कि वे अपने नाम के आगे ‘मोदी’ लगाना शुरू करें।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के छोटे भार्इ प्रहलाद मोदी ने रविवार को एक कार्यक्रम के दौरान अपने समुदाय से कहा कि वे अपने नाम के आगे ‘मोदी’ लगाना शुरू करें। भोपाल में अखिल भारतीय साहू समाज की युवक-युवतियों के परिचय सम्‍मेलन में उन्‍होंने कहा, ”यहां आने के बाद मुझे केवल यही सुनने को मिल रहा है कि नरेंद्र मोदी देश और समाज के गौरव हैं। लेकिन हम तेली समाज के लोग हमारे नामों के आगे मोदी लगाने को तैयार क्‍यों नहीं है।” प्रहलाद मोदी ने कहा कि समुदाय के लोग अपने स्‍वार्थ के लिए उपजातियों के नाम जैसे साहू, चौहान, परमार, राठोड़ और जायसवाल को उपयोग करते हैं। पीएम के भाई ने कहा, ”देवी कर्मा देवी तेली थीं और हम सब उनके बच्‍चे हैं। हम तेली और मोदी हैं।”

उन्‍होंने कहा, ”हमें आज यह संकल्‍प लेना चाहिए कि हमारा नाम मोदी से शुरू होगा। यदि हम मोदी लगाना शुरू करेंगे तो मेरा मानना है कि हमारे समाज की आबादी 14 करोड़ होगी।” प्रहलाद मोदी ने आगे कहा कि समुदाय वर्गों में बंटा हुआ है। पाटीदार और राजपूत समुदायों में भी उपजातियां हैं लेकिन उनकी पहचान पाटीदार और राजपूत ही है। कार्यक्रम के बाद प्रहलाद मोदी ने पत्रकारों से बातचीत में केंद्र सरकार के नोटबंदी के फैसले की तारीफ भी की। उन्‍होंने कहा कि इस फैसले से देश के अच्‍छे दिन आएंगे। उन्‍होंने पीएम मोदी की तारीफ में कहा कि वे देशहित में काम कर रहे हैं। पूरे परिवार को उन पर गर्व है।

प्रहलाद मोदी अहमदाबाद में ही रहते हैं। वे राशन की दुकान चलाते हैं और ऑल इंडिया फेयर प्राइस शॉप फेडरेशन के उपाध्‍यक्ष भी हैं। इसी साल मार्च में वे सरकार के खिलाफ प्रदर्शन के लिए दिल्‍ली में सड़क पर उतरे थे। उन्‍होंने राशन सेवाओं में बायोमेट्रिक पद्धति को लॉन्‍च करने का विरोध किया था। इस बारे में उनका कहना था कि इससे व्‍यापारियों को नुकसान होगा।

प्रधानमंत्री अपने मंत्रियों की भी नहीं सुनते, जो मन में आता है वो करते हैं: राहुल गांधी, देखें वीडियो:

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग