May 26, 2017

ताज़ा खबर

 

इस गांव की सीमा में नहीं है महिलाओं को बच्‍चा पैदा करने की इजाजत

भोपाल शहर से 70 किमी दूर इस गांव में पिछले 50 सालों से किसी महिला ने बच्चे को जन्म नहीं दिया है।

पिछले 50 सालों से गांव में यह परंपरा चली आ रही है।

मध्य प्रदेश के भोपाल में एक ऐसा गांव है जहां की महिलाओं को यह इजाजत नहीं है कि वह गांव में बच्चों को जन्म दे सकें। संका जागीर गांव भोपाल से 70 किमी दूर है। इस गांव की जनसंख्या 1200 है। यहां रहने वाले ज्यादातर परिवार गुर्जर समुदाय के हैं। गांव के बुजुर्ग बताते है कि पिछले 50 साल से किसी भी महिला ने इस गांव में बच्चे को जन्म नहीं दिया है। गांव वासियों का मानना है कि यदि कोई महिला गांव में बच्चे को जन्म देती हैं तो या तो बच्चे की मौत हो जाएगी या फिर वह शारीरिक रुप से विकृत हो जायेगा।

गांव में ऐसी मान्यता है कि सालों पहले इस गांव में एक मंदिर श्याम जी को समर्पित किया गया था। श्याम जी इस क्षेत्र के राजपूतों के मुखिया थे। उनके सम्मान में गांव का कोई भी व्यक्ति शराब नहीं पीता है। इसके अलावा जो व्यक्ति शराब पीता है वह तब तक गांव में प्रवेश नहीं कर सकता जब तक वह शराब समेत बाकी बुरी लतें छोड़ न दे। सालों पुरानी इस परंपरा को आज भी लोग निभा रहे हैं। गर्भवती महिलाओं को लोग शहर के अस्पताल भेजते हैं पर गांव में जन्म नहीं देने देते। हालांकि गांव के सरपंच नरेंद्र सिंह गुर्जर बताते हैं कि अब वो इस परंपरा को बदलना चाहते हैं। वो चाहते हैं कि अब गांव में ही अस्पताल खुले जिसमें सारी सुविधाएं होंगी जिससे महिलाएं गांव में ही सुरक्षित तरीके बच्चों को जन्म दे सकेंगी।

Read Also: पंजाब: सीमावर्ती गांवों में 1965 और 1971 के युद्ध जैसे हालात, गांवों में रह गए हैं केवल मर्द

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 10, 2016 6:07 pm

  1. No Comments.

सबरंग