ताज़ा खबर
 

दलित की बेटी की शादी में बैंड-बाजा देख भड़के दबंग, कुंए में मिलाया मिट्टी का तेल

23 अप्रैल को माणा गांव में रहने वाले चंदेर मेघवाल की बेटी की शादी थी, जिसमें बैंड-बाजे का इंतजाम किया गया था। इसके विरोध में गांव में रहने वाले दबंगों ने बैंडबाजे का उपयोग करने को लेकर चेतावनी जारी की गई थी।
गांव में दलितों के एकमात्र कुंए के पानी में दबंगों ने केरोसिन मिला दिया। (Photo Source: Videograb)

मध्य प्रदेश के आगर मालवा जिले के माणा गांव में एक दलित को बेटी की बारात का स्वागत बैंडबाजे से करना भारी साबित हुआ। गांव के दंबगों द्वारा इसका विरोध किया था, लेकिन उसने इस फैसले को मानने से मना कर दिया है और धूमधाम से बेटी की शादी के लिए आई बारात का स्वागत किया। यह सब पुलिस प्रशासन की मौजूदगी में हुई। दबंगों पर आरोप है कि बात नहीं मानने पर बदला लेने के लिए दलितों द्वारा इस्तेमाल किए जाने कुंए के पानी में केरोसिन ऑयल (मिट्टी का तेल) मिला दिया। यह घटना मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से 200 किलोमीटर दूर स्थित गांव में घटित हुई। केरोसिन के कारण कुंए का पानी पीने लायक नहीं बचा था, जिसके बाद एक पंप का इस्तेमाल करके दूषित पानी को बाहर निकाला गया।

23 अप्रैल को माणा गांव में रहने वाले चंदेर मेघवाल की बेटी की शादी थी, जिसमें बैंड-बाजे का इंतजाम किया गया था। इसके विरोध में गांव में रहने वाले दबंगों ने बैंडबाजे का उपयोग करने को लेकर चेतावनी जारी की गई थी। उन्होंने चेतावनी दी थी अगर बैंडबाजे का इस्तेमाल किया गया तो उनका सामाजिक बहिष्कार किया जाएगा। गांव की परपंरा के मुताबिक इस गांव में दलितों को बारात का स्वागत करने के लिए सिर्फ ‘ढोल’ की अनुमति है। इसके बाद मेघवाल ने इसकी शिकायत पुलिस और प्रशासन से की। जिसके बाद पुलिस सुरक्षा में उनकी बेटी की शादी पूरे रीति-रिवाज से बैंडबाजे के साथ संपन्न हुई। जिसका बात का बदला लेने के लिए दलितों के कुंए के पानी में केरोसिन डाल दिया गया।

कुंए में पानी में तेल मिलाए जाने की जानकारी होने के बाद जिले के डीएम डीवी सिंह और पुलिस अधीक्षक आर एस मीना खुद मौके पर पहुंचे और दलितों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले पानी को पीकर देखा। साथ ही उच्च वर्गों के सदस्यों से भी बातचीत की। यही नहीं, उन्होंने दलितों के दो बोरवेल लगवाने की भी घोषणा की, जिससे कि उन्हें आगे इस समस्या से न जूझना पड़े। डीएम की ओर से आश्वासन दिया गया है कि दलित परिवारों को पूरी सुरक्षा दी जाएगी और पानी की आपूर्ति की व्यवस्था भी प्रशासन करेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग