December 04, 2016

ताज़ा खबर

 

भोपाल एनकाउंटर: बंद सीसीटीवी और नकली चाबी जैसे तथ्यों से गहराया शक, जेल के ही किसी व्‍यक्ति ने की कैदियों की मदद

जानकारी के मुताबिक, जांच में ताले की नकली चाबी और नाली के पास एक चाकू मिला, इसके अलावा जिस बैरक में कैदी रह रहे थे उसका सीसीटीवी भी बंद मिला।

Author November 7, 2016 08:22 am
मुठभेड़ में मार गिराए गए सिमी सदस्यों का शव उनके परिजनों को सौंपते पुलिसवाले। (PTI Photo: 1 नवंबर)

भोपाल सेंट्रल जेल से फरार होने के बाद मुठभेड़ में मार गिराए गए 8 सिमी सदस्यों के जेल से भागने का तरीका अभी तक पूरी तरह साफ नहीं हुआ है। अभी तक की जांच में संदेह जा रहा है कि कैदियों जेल से फरार होने का कारण बदइंतजामी नहीं है, बल्कि किसी अंदर के व्यक्ति की मदद से यह संभव हो पाया है। जानकारी के मुताबिक, जांच में ताले की नकली चाबी और नाली के पास एक चाकू मिला, इसके अलावा जिस बैरक में कैदी रह रहे थे उसका सीसीटीवी भी बंद मिला। इन तथ्यों के आधार मध्य प्रदेश के सीनियर अधिकारियों का शक जा रहा है कि कैदियों को भागने में अंदरुनी मदद मिली होगी।

एक सीनियर अधिकारी ने नाम का खुलासा ना करने की शर्त पर हमारे सहयोगी अखबार द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि जिस हद तक कैदियों की मदद की गई वह चौंका देने वाली है। मप्र के गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह ने बताया कि अंदर की मिलीभगत के बिना ऐसा संभव ही नहीं हो सकता। उन्होंने आरोप लगाया कि जेल से भागने के लिए बाह्य फंडिंग भी की गई होगी। भूपेंद्र सिंह ने बोला, “इसके लिए कम से कम दो से तीन महीने से योजना बनाई जा रही होगी, क्योंकि डुपलिकेट चाबी बनाने में इतना समय लग जाता है।”

वीडियों में देखिए: क्या करता है आतंकी संगठन सिमी

सीनियर अधिकारी ने बताया, “जेल में करीब 50 सीसीटीवी कैमरा हैं, जिनमें से अधिकतर काम करते हैं। लेकिन ब्लॉक बी (जिसमें ये सिमी कैदी थे) के ही तीनों सीसीटीवी का बंद हो जाना संयोग तो बिलकुल नहीं लगता। इन्हें जरूर बंद किया गया होगा।” उन्होंने कहा कि इन तीनों ही कैमरे में सात दिन की मैमोरी खाली थी, जिसका सीधा मतलब है कि इन्हें लंबे समय से बंद किया हुआ था।

ऑफिसर ने बताया कि सिमी सदस्यों की लंबी प्लानिंग का ही नमूना है कि टूथब्रश से उन्होंने हर ताले की चाबी तक बना ली थी। अधिकारी के मुताबिक, “ब्रश को चाबी के रूप में ढालने के लिए उन्हें किसी बाहर के शख्स ने चाबियों का ढांचा दिया होगा।” एक अन्य अधिकारी ने बताया कि पिछले सोमवार सुबह हुई वारदात के बाद राज्य सरकार के कुछ वरिष्ठ अधिकारी जांच के लिए जेल पहुंचे थे। वहां उन्हें नाली के पास पड़ा एक चाकू भी मिला था।

सिमी सदस्यों के एनकाउंटर का कथित वीडियो:

गौरतलब है कि सोमवार (31 अक्टूबर) को आठ अंडरट्रायल कैदी भोपाल की सेंट्रल जेल से एक सुरक्षागार्ड की हत्या करके भाग गए थे। पुलिस ने कहा था कि स्टील की प्लेट को पैना करके उन लोगों ने गार्ड की हत्या की थी और फिर बेडशीट की मदद से 30 फिट की दीवार कूदकर भाग गए थे। उन सभी लोगों पर मर्डर, देशद्रोह और दंगे करवाने के आरोप थे। विपक्षी पार्टियों द्वारा एनकाउंटर पर सवाल उठाए गए थे। विपक्ष ने इस मामले की निष्पक्ष जांच करवाने की भी मांग की थी। यह जांच घटनास्थल की तीन वीडियो और दो ऑडियो सामने आने के बाद उनको बेस बनाकर हो सकती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 7, 2016 8:14 am

सबरंग