ताज़ा खबर

 

‘मुस्लिम बादशाहों ने किया गोहत्या का विरोध, मैं खुद भी सख्त विरोधी हूं’

उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री आजम खां ने कहा है कि हम खुद गोहत्या के सख्त विरोधी हैं।

देश भर में बीफ बैन को लेकर चल रहा विवाद लगातार बढ़ता ही रहा है, कभी इसके समर्थन वालों को धमकी मिलती है तो कभी किसी की हत्या कर दी जाती है, कभी विरोध प्रदर्शन किया जाता है तो कभी विवादात्मक बयानवाजी होती है।

हाल ही उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री आजम खां ने कहा है कि हम खुद गोहत्या के सख्त विरोधी हैं। उन्होंने कहा कि मुसलमान बादशाहों ने भी गोहत्या का विरोध किया था। शनिवार को मीडिया से बातचीत में मंत्री ने कहा कि बाबर के दौर में तो गोहत्या पर पूरी तरह प्रतिबंध था।

आजम ने बहादुर शाह जफ़र का नाम लेते हुए कहा कि उनके जमाने में गोहत्या पर सख्त सजा का प्रावधान था। लिहाजा उन्होंने भी गोहत्या का विरोध किया था। आजम ने कहा कि आझ के दौर में जो लोग गाय पालते हैं, वे बूढ़ी होने पर उसे बाजार में बेच देते हैं, ऐसे में लोग खाते हैं।

बकौल आजम लोगों चाहिए कि वह बूड़़ी होने तक गाय को घर में रखे औऱ बाद में मरने के बाद भी उसे पूरे सम्मान के साथ दफन करें। उन्होंने कहा कि भाजपा और आरएसएस गाय को मुद्दा बना रहे हैं।

गाय भाजपा के चुनावी मुद्दे में भी शामिल है। भाजपा देश का माहौल खराब करना चाहती है, इसीलिए भाजपा नेताओं की ओर से ऐसे बयान जारी किए जा रहे हैं, जिनसे समाज में नफरत फैले। दादरी कांड को भी साजिश के तहत अंजाम दिया गया।

 

हर पल अपडेट रहने के लिए JANSATTA APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

First Published on October 25, 2015 10:19 am

सबरंग