January 17, 2017

ताज़ा खबर

 

नाकाम हुर्इं घुसपैठ की कोशिशें, सेना ने सात आतंकी मार गिराए, लश्कर की धमकी के बाद बढ़ी मंत्री की सुरक्षा

सेना ने गुरुवार को कश्मीर घाटी में सात आतंकवादियों को मार गिराया। ये आतंकी पाक कब्जे वाले कश्मीर से आए थे।

Author श्रीनगर | October 7, 2016 01:51 am

सेना ने गुरुवार को कश्मीर घाटी में सात आतंकवादियों को मार गिराया। ये आतंकी पाक कब्जे वाले कश्मीर से आए थे। इनमें से चार आतंकी सीमा पर घुसपैठ की कोशिश में मारे गए, जबकि तीन दहशतगर्द हंदवाड़ा में सेना के शिविर पर हमले के दौरान ढेर कर दिए गए। बाकी हमलावरों की तलाश देर रात तक जारी रही। इस बीच उत्तरी क्षेत्र के कमांडर ने उड़ी का दौरा किया और हालात का जायजा लिया। उन्होंने सेना से चौकसी बढ़ाने को कहा ताकि दुश्मन की हर चाल को नाकाम किया जा सके। सैन्य सूत्रों ने बताया कि गुरुवार तड़के जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर की तरफ से घुसपैठ की तीन कोशिशें नाकाम कर दीं और चार आतंकवादियों को मार गिराया। सेना ने पांच और छह अक्तूबर की दरम्यानी रात को उत्तरी कश्मीर के नौगाम सेक्टर में घुसपैठ के दो और रामपुर में एक प्रयास को नाकाम किया। सेना के एक अधिकारी ने बताया कि एक मुठभेड़ में सेना ने यहां से 112 किलोमीटर दूर नौगाम सेक्टर में घुसपैठ कर रहे आतंकवादियों के समूह को घेर लिया और अब तक चार आतंकवादी मारे गए हैं। अधिकारी ने कहा कि क्षेत्र में और आतंकवादियों की उपस्थिति की आशंका के बीच खोज अभियान जारी है। संभावित आतंकवादियों को अंधेरे का फायदा उठाकर भागने से रोकने के लिए क्षेत्र में रोशनी की गई है और तकनीकी निगरानी की जा रही है।

सेना ने आतंकवादियों पर गोलियां चलाकर रामपुर और नौगाम में घुसपैठ के दो प्रयासों को नाकाम किया और उन्हें पीओके में वापस जाने को मजबूर किया। सेना के गश्ती दल की गोलियों से मजबूर होकर आतंकवादियों को वापस लौटना पड़ा। अधिकारी ने कहा कि दोनों मौकों पर पाकिस्तानी सेना ने मदद पहुंचाने के लिए गोलियां चलाईं। लेकिन आतंकवादियों को वापस भागना पड़ा। घुसपैठ के ये प्रयास ऐसे समय हुए हैं जब बुधवार को राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने सुरक्षा मामलों की कैबिनेट बैठक को बताया था कि पाकिस्तानी सेना ने नियंत्रण रेखा पर करीब सौ आतंकवादियों को एकत्रित किया है ताकि उन्हें जम्मू कश्मीर में हमलों के लिए भारत भेजा जा सके।

प्रवक्ता ने कहा कि सैन्य कमांडर ने 3 अक्तूबर को बारामूला आतंकी हमले को विफल बनाने और आज लांगेट, कुपवाडा में तीन पाकिस्तानी आतंकवादियों को मारने में पेशेवर रवैये का परिचय देने के लिए इस क्षेत्र में काम करने वाले सैनिकों की सराहना की । उन्होंने कहा कि दोनों वरिष्ठ अधिकारियों ने बाद में दक्षिण कश्मीर में अवंतिपुर स्थित विक्टर फोर्स मुख्यालय का दौरा किया जहां लेफ्टिनेंट जनरल हुड्डा को किलो और विक्टर फोर्स के कमांडरों ने घाटी में सुरक्षा की स्थिति की जानकारी दी । प्रवक्ता ने कहा कि सैन्य कमांडर ने घाटी में काम करने वाले आतंकी समूहों पर दबाव बनाना जारी रखने के साथ नागरिक प्रशासन के मानवीय पहल में सहायता करना जारी रखने को भी कहा ।

उधर सीमावर्ती कुपवाड़ा जिले में एक सैन्य शिविर पर भारी हथियारों से लैस तीन पाकिस्तानी आतंकियों के हमले की कोशिश को नाकाम करते हुए सतर्क सैनिकों ने मुठभेड़ के दौरान सभी हमलावरों को मार गिराया और उनके पास से मानचित्र जैसी सामग्री समेत हथियारों और गोला-बारूद का बड़ा जखीरा बरामद किया। सेना के एक अधिकारी ने बताया कि आतंकवादियों ने सुबह करीब पांच बजे कुपवाड़ा जिले के लंगाते में सैन्य शिविर पर गोलीबारी शुरू कर दी, जिसका भारतीय जवानों ने माकूल जवाब दिया। हमले को नाकाम करने के बाद सुरक्षाबलों ने इलाके में तलाशी अभियान शुरू किया। इस दौरान आतंकवादियों ने उन पर गोलीबारी की, जिसके बाद मुठभेड़ शुरू हो गई।

अभियान के बारे में मीडिया को जानकारी देते हुए कमांडिंग आॅफिसर कर्नल राजीव सारंग ने बताया कि शिविर के पास संदिग्ध गतिविधि देखकर जवानों ने तीन आतंकवादियों को चुनौती दी। लंगाते में कर्नल सारंग ने संवाददाताओं को बताया, हमारे शिविर के पास तीन आतंकवादी देखे गए। हमारे सैनिकों ने आतंकवादियों को चुनौती दी, जिसके बाद उन्होंने हमारी सैन्य चौकियों पर भारी गोलीबारी शुरू दी। हमने भी उनका जवाब दिया और एक त्वरित प्रतिक्रिया दल का गठन किया गया ताकि आतंकवादी जिस इलाके में देखे गए थे, वहां से भाग ना सके। उन्होंने कहा कि सुरक्षा बलों की कार्रवाई में सभी तीन आतंकवादी मारे गए। कर्नल सारंग ने बताया कि सुरक्षा बलों ने मारे गए आतंकियों के पास से हथियारों और गोला-बारूद का भारी जखीरा बरामद किया है।

लश्कर की धमकी के बाद बढ़ी मंत्रीो की सुरक्षा
लश्करे तैयबा की धमकी बाद जम्मू कश्मीर के शिक्षा मंत्री नईम अख्तर की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। यह धमकी अशांत घाटी क्षेत्र में स्कूलों को फिर से खोलने और लोगों से उनके बच्चों को स्कूल भेजने के अनुरोध के बाद मिली है।
सुरक्षा प्रकोष्ठ के अधिकारियों ने मंत्री को उन एहतियात के बारे में बताया जो उन्हें बरतने हैं। साथ ही उनके निजी सुरक्षाकर्मियों को निर्देश दिया गया है कि वे उन्हें अकेला नहीं छोड़े।
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुरक्षा (कश्मीर) ने अपने वरिष्ठ अधिकारियों को लिखे एक पत्र में कहा है कि मंत्री के सुरक्षाकर्मियों और संबंधित अधिकारी से कहा गया है कि वे उन्हें छोड़कर कहीं भी न जाएं। सुरक्षा अधिकारियों ने मंत्री के मकान के पिछले हिस्से में बाड़बंदी की ऊंचाई बढ़ाने और सीआरपीएफ कर्मियों की संख्या में बढ़ोतरी करने की सिफारिश भी की है। नईम अलगाववादियों के जरिए चलाए जा रहे मौजूदा आंदोलन के मुखर विरोधियों में शामिल रहे हैं क्योंकि इसका शिक्षा पर प्रभाव पड़ रहा है। उन्होंने अभिभावकों से अपने बच्चों को स्कूल भेजने की अपील की थी। लश्कर ने लोगों से सामान्य कामकाज बहाल करने के लिए कहने के खिलाफ नईम को धमकी दी थी।

गुजरात तट पर कड़ी चौकसी
खुफिया एजंसियों के इनपुट के बाद गुजरात तट पर निगरानी बढ़ा दी गई है। इस तट पर बंदरगाह, तेल रिफायनरी जैसे महत्त्वपूर्ण प्रतिष्ठान और द्वारका और सोमनाथ जैसे प्रसिद्ध मंदिर हैं। देवभूमि द्वारका जिला पुलिस अधीक्षक पार्गी ने कहा कि गुजरात के तटीय जिलों के लिए अलर्ट जारी किया गया है।

उत्तरी कमान के प्रमुख ने किया सुरक्षा मुआयना
सेना के उत्तरी कमान के जनरल आफिसर कमांडिंग इन चीफ लेफ्टिनेंट डीएस हुड्डा ने नियंत्रण रेखा के पार से किसी ‘दुस्साहस’ को विफल करने और कश्मीर में आतंकी समूहों पर ‘दबाव’ बनाने के लिए उठाए जा रहे कदमों की समीक्षा की। रक्षा मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा, सेना के उत्तरी क्षेत्र के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल डीएस हुड्डा के साथ श्रीनगर स्थित चिनार कार्प्स के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल सतीश दुआ ने उड़ी के अग्रिम मोर्चे का दौरा किया और स्थानीय कमांडरों के साथ सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की । उन्होंने नियंत्रण रेखा के पार से किसी दुस्साहस को विफल बनाने के लिए सेना की ओर से उठाए गए सभी कदमों की समीक्षा की। सेना के उत्तरी क्षेत्र के कमांडर की उड़ी सेक्टर का दौरा ऐसे समय में हुआ है जब एक दिन पहले ही सेना ने नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ के तीन प्रयासों को विफल कर दिया था और नौगाम सेक्टर में एक आतंकी को मार गिराया था। कुपवाड़ा में भी तीन आतंकवादियों को मार गिराया गया था। प्रवक्ता ने कहा कि अधिकारियों और क्षेत्र में तैनात जवानों से बातचीत के दौरान लेफ्टिनेंट जनरल हुड्डा ने उच्चस्तरीय परिचालनात्मक तैयारियों, सतर्कता, मनोबल की सराहना की और उनसे किसी भी परिस्थिति के लिए सतर्क रहने को कहा ।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 7, 2016 1:47 am

सबरंग