ताज़ा खबर
 

उबर ने 6 KM के चार्ज किए 5325 रुपये, ड्राइवर से कहा- जब तक पैसे न दे उतरने मत देना

जब प्रवीण ने पूरी कहानी पुलिस को बताई तो पुलिस ने उसे मात्र 103 रुपये भुगतान करने को कहा।
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

मैसूर के एक इंजीनियर प्रवीण बी.एस. ने बेंगलुरु रेलवे स्टेशन से सैटेलाइट बस स्टॉप, मैसूर रोड तक जाने के लिए उबर कैब ली लेकिन जब 6 किलो मीटर की यात्रा पूरी हुई और ड्राइवर ने बिल थमाया तो उसके होश उड़ गए। ड्राइवर ने यात्रा समाप्ति का बटन दबाया तो मीटर ने पांच हजार तीन सौ पच्चीस (5,325) रुपये का बिल थमा दिया। जब प्रवीण ने बिल भुगतान से मना किया तो उसे ड्राइवर ने बताया कि उसका असली बिल 103 रुपया ही है, बाकी उसका पुराना बकाया है। इसके बाद प्रवीण ने बताया कि उसने तो दूसरी बार ही उबर कैब की सवारी की है, बकाया कहां से आ गया तो ड्राइवर ने तुरंत उबर कॉल सेंटर को फोन लगा दिया। उधर से ड्राइवर को संदेश मिला कि जब तक पैसे न दे यात्री को गाड़ी से उतरने मत देना।

बेंगलुरु मिरर के मुताबिक, इसके बाद दोनों के बीच काफी बहस हुई। इंजीनियर प्रवीण बार-बार यह कहता रहा कि कोई तकनीकि गड़बड़ी है जिसकी वजह से बिल में गड़बड़ी हुई है। इसके बाद ड्राइवर ने पुलिस को फोन लगा दिया। पुलिस ने थाने पहुंचने का फरमान सुनाया लेकिन फिर समस्या आई कि इसका बिल कौन देगा तो ड्राइवर ने कहा कि इसका बिल भी कस्टमर देगा। प्रवीण ने इससे भी इनकार कर दिया और पैदल थाने चलने की बात कही तब ड्राइवर ने थाने जाने तक का पैसा न लेने को राजी हुआ।

आखिरकार अब दोनों भाईतारयनपुरा थाने पहुंच चुके थे। इस बीच दोनों के बीच काफी देर तक गर्मा गरम बहस हो चुकी थी। जब प्रवीण ने पूरी कहानी पुलिस को बताई तो पुलिस ने उसे मात्र 103 रुपये भुगतान करने को कहा। ड्राइवर ने कहा कि वो भी परेशान था क्योंकि जब वो पैसे कस्टमर से नहीं वसूल करेगा तो कंपनी उसके खाते से पांच हजार रुपये काट लेगी। हालांकि, बाद में उबर के अधिकारी ने इसे तकनीकी गड़बड़ी बताते हुए प्रवीण बीएस से माफी मांग ली।

दरअसल, प्रवीण को बेंगलुरु से मैसूर वापस जाने के लिए कैब लेनी थी लेकिन उसके मोबाइल में उबर ऐप नहीं था, इसलिए वो रेलवे स्टेशन के पास टैक्सी देने वाले एक एजेंट के पास गया। उसी एजेंट ने बुकिंग कियोस्क से प्रवीण के लिए कैब बुक कर दी थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on May 5, 2017 5:11 pm

  1. M
    Manoharkalra
    May 6, 2017 at 6:59 am
    This episode suggests that Uber is good to use only if allows you to ride now and pay later.
    Reply
सबरंग