May 30, 2017

ताज़ा खबर

 

तिरुवनंतपुरम: नोटबंदी का विरोध करने पर हिरासत में लिए गए कांग्रेस नेता शशि थरूर

शशि थरूर ने नोटबंदी की आलोचना करते हुए कहा था इसे गलत तरीके से लागू किया गया।

कांग्रेस सांसद शशि थरूर को हिरासत में लेती पुलिस। ( Photo Source: ANI)

नोटबंदी के खिलाफ आरबीआई के दफ्तर के सामने प्रदर्शन करने पर कांग्रेस सांसद शशि थरूर और अन्य पार्टी नेताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया है। न्यूज एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक कांग्रेस नेता राज्य की राजधानी में आरबीआई कार्यालय के बाहर प्रदर्शन कर रहे थे, तभी पुलिस ने उन्हें अपनी हिरासत में ले लिया। केरल में कांग्रेस नोटंबदी के फैसले के तरीके का विरोध कर रही है।

नोटबंदी के खिलाफ कांग्रेस के राष्ट्रव्यापी आंदोलन के तहत पार्टी की केरल इकाई के हजारों कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को राज्य भर में केंद्र सरकार के कार्यालयों के बाहर प्रदर्शन किया। विपक्ष के नेता रमेश चेन्नीथला ने भारतीय रिजर्व बैंक के क्षेत्रीय कार्यालय के सामने अपनी गिरफ्तारी दी। यह प्रदर्शन अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की ओर से आहूत राष्ट्रव्यापी आंदोलन का हिस्सा है, जिसमें नरेंद्र मोदी सरकार की कथित जनविरोधी नीतियों और नोटबंदी से प्रभावित आम आदमी की समस्याओं को हल करने में विफल रहने के खिलाफ बूथ स्तर से राष्ट्रीय स्तर तक प्रदर्शन शामिल हैं।

वरिष्ठ नेताओं, विधायकों, सांसदों और एआईसीसी प्रतिनिधियों ने केंद्र सरकार के विभिन्न दफ्तरों के बाहर धरना दिया जिसमें प्रधान डाकघर भी शामिल हैं। चेन्नीथला की अगुवाई में बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं ने राज्य की राजधानी में रिजर्व बैंक के दफ्तर के बाहर प्रदर्शन किया। सांसद शशि थरूर, विधायक वीएस शिवकुमार सहित वरिष्ठ नेताओं ने प्रदर्शन में शिरकत की। इस तरह की खबरें हैं कि पार्टी कार्यकर्ताओं ने पुलिस अवरोध तोड़ने और कार्यालय परिसरों में प्रवेश करने की कोशिश की।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री ओमन चांडी ने कोझीकोड में प्रधान डाकघर के सामने आंदोलन का नेतृत्व किया जबकि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष वीएम सुधीरन ने त्रिसूर में प्रदर्शन की अगुवाई की।

थरूर ने नई दिल्ली में आइडिया एक्सचेंज में कहा था, ‘आपके पास कैश है नहीं और अपने पूरे देश को हिला कर रख दिया। आपने तीन घंटे में देश की 86 फीसदी करेंसी को रद्द कर दिया। यह आश्चर्यजनक था। पूरे विश्व में किसी ने ऐसा नहीं किया। दूसरा प्लानिंग की कमी ऐसी थी कि नए नोट को सेम साइज में नहीं बनाया गया, जो कि एटीएम मशीन में फिट बैठ सकें। यह बहुत ही डरावना था। ऐसे में 2.5 लाख एटीएम मशीन को री-केलिब्रेट करने के लिए 55 हजार इंजीनियर्स को संघर्ष करना पड़ा। यह बताता है कि सरकार अनाड़ी है।’

वीडियो- नोटबंदी पर पहली बार बोले राष्ट्रपति; कहा- “कुछ वक्त के लिए अर्थव्यवस्था पर पड़ सकता है असर”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on January 6, 2017 2:25 pm

  1. P
    Prashant Goutam
    Jan 6, 2017 at 2:20 pm
    देश का लोकतन्त्र अब संकट मे है ।
    Reply

    सबरंग