December 09, 2016

ताज़ा खबर

 

प्रसिद्ध गायक बालमुरलीकृष्‍ण का निधन, ‘मिले सुर मेरा तुम्‍हारा’ से बनी थी राष्‍ट्रीय पहचान

कर्नाटक संगीत की शीर्ष हस्तियों ने उनके निधन पर शोक जताया है।

Author November 22, 2016 20:42 pm
प्रसिद्ध गायक एम. बालमुरलीकृष्‍ण। (FILE PHOTO)

कर्नाटक संगीत के प्रसिद्ध गायक एम बालमुरलीकृष्ण का आज यहां निधन हो गया। उन्होंने चार दशकों तक अपने संगीत से श्रोताओं को लुभाया। उनके परिवार के सूत्रों ने पीटीआई-भाषा से कहा कि 86 साल के गायक कुछ समय से बीमार थे और आज यहां अपने घर पर उन्होंने अपनी अंतिम सांसें लीं। संगीत क्षेत्र की बेहद सम्मानित हस्ती बालमुरली कृष्ण राष्ट्रीय एकता को समर्पित प्रसिद्ध गाने ‘मिले सुर मेरा तुम्हारा’ में दिखे थे जिसमें उन्होंने तमिल में कुछ पंक्तियां गायी थीं। 1965 में आयी शिवाजी गणेशन अभिनीत ‘तिरूविलयादल’ का उनका गाना ‘ओरू नाल पोथुमा’ तमिल श्रोताओं में बेहद लोकप्रिय हुआ था। बालमुरली कृष्ण ने तमिल और तेलुगू की कई फिल्मों में अभिनय भी किया था। उन्हें पद्म विभूषण सहित कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया। कर्नाटक संगीत की शीर्ष हस्तियों ने उनके निधन पर शोक जताया है।

एम. बालमुरलीकृष्ण देश के मशहूर और सम्मानित हस्तियों में से एक थे। उनका जन्म आंध्र प्रदेश के संकरागुप्तम में हुआ था और उन्होंने 6 साल की उम्र से ही गाना शुरू कर दिया था। बालमुरलीकृष्ण कर्नाटक वाद्य संगीत, वॉयला और वायलिन बजाने में बेजोड़ थे। उनका संगीत के क्षेत्र अहम योगदान रहा है। बालमुरलीकृष्ण 15 साल की उम्र से ही नियमित रूप से कॉन्सर्ट में परफॉर्म करने लगे थे। उनका संगीत के क्षेत्र में अहम योगदान रहा है जिसके लिए उन्हें हमेशा याद रखा जाएगा। इसके अलावा उन्हें कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पुरस्कारों से नवाजा गया था। वह भारत के तीनों पद्म पुरस्कार- पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्म श्री से सम्‍मान‍ित किए गए थे।

जम्मू-कश्मीर: माछिल सेक्टर में तीन जवान शहीद, एक के शव के साथ हुई बर्बरता; सेना बोली- बदला लेंगे, देखें वीडियो:

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 22, 2016 7:58 pm

सबरंग