ताज़ा खबर
 

VIDEO: बेंगलुरु के मंदिर में साड़ी पहनकर पहुंची ब्रिटिश पीएम, हाथ जोड़कर की भगवान शिव की आराधना

इससे पहले थेरेसा मे अपनी यात्रा के दौरान बिना जूते के नंगे पांव नजर आई थीं। सोमवार को गांधी स्मृति वन में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रृद्धांजलि देने पहुंची मे ने जूते नहीं पहन हुए थे।
Author बेंगलुरु | November 9, 2016 10:46 am
बेंगलुरु के सोमेश्वर मंदिर में दर्शन के लिए पहुंची ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे। (PTI Photo)

भारत दौरे पर आई ब्रिटिश प्रधानमंत्री थेरेसा मे बुधवार को बेंगलुरु स्थिति श्री सोमेश्वर मंदिर पहुंची। मंदिर में थेरेसा भारत के पारंपरिक स्टाइल में पहुंची। मे ने सुनहरे और हरे रंग की साड़ी पहनी हुई थीं। यहां उन्होंने हाथ जोड़कर भगवान शिव की आराधना की। वह अपने दौरे के अंतिम दिन मंदिर दर्शन के लिए पहुंची थी। थेरेसा का भारतीय परिधान से लगाव पहले भी सामने आ चुका है। इससे पहले 2010 में एक इवेंट के दौरान मे सिल्क की साड़ी और फ्लैट हील्स में नजर आईं थी। उनका यह लुक बहुत फेमस भी हुआ था। बता दें कि थेरेसा मे का स्टाइल और उनका शू कलेक्शन अक्सर मीडिया की सुर्खियां बनता आया है।

इससे पहले थेरेसा मे अपनी यात्रा के दौरान बिना जूते के नंगे पांव नजर आई थीं। सोमवार को गांधी स्मृति वन में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रृद्धांजलि देने पहुंची मे ने जूते नहीं पहन हुए थे। इसको लेकर ब्रिटिश मीडिया में खबर भी बनी थी। शू क्लेक्शन को लेकर उनकी दीवानगी इस कदर है कि वह कह चुकी हैं मुझे इस बात से कोई इनकार नहीं कि मैं अपने जूतों की वजह से फेमस हूं। मे ब्रिटेन की प्रधानमंत्री बनाने की चर्चा के दौरान भी उनके स्टाइल और जूतों को लेकर मीडिया में कई खबरें आईं थी।

गौरतलब है कि ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा अपनी तीन दिवसीय यात्रा पर भारत आई थी। इस दौरान उन्होंने अपने भारतीय समकक्ष नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात की। उन्होंने अपनी बातचीत में साफ संकेत दिए हैं कि अगर भारत वीजा नियमों में ढील चाहते हैं तो उसे ब्रिटेन में गैरकानूनी रूप से रह रहे हजारों अप्रवासी भारतीयों को वापस लाना होगा। उन्होंने भरोसा जताया है कि भारत, यूके में गैरकानूनी रूप से रह रहे अप्रवासियों को वापस लेगा। मे ने कहा कि वह वीजा के नियमों में सुधार पर और अधिक विचार करेंगी। यूके ने जुलाई महीने में भारतीयों के लिए 4,60,000 वीजा जारी किए थे। भारतीय राजनयिकों और अधिक स्टूडेंट और वर्क वीजा की जरुरत होने का दावा किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.