December 03, 2016

ताज़ा खबर

 

500 और 1000 रुपए के बंडल गिनते-गिनते हुई महिला की मौत, बुढापे के लिए जोड़े थे पैसे

कानपुर में नोट बंद होने की सूचना मिलने के बाद एक बुजुर्ग महिला की हार्ट अटैक से मौत हो गई। महिला के शरीर के पास नोटों के बंडल मिले हैं।

महिला के पास बरामद हुए 2 लाख से ज्यादा रुपए (file photo)

मोदी सरकार द्वारा बड़े नोट बंद किए जाने के बाद से लोगों बहुत परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। कहीं पर लोगों को इलाज नहीं मिल पा रहा है तो कहीं कफन का कपड़ा नहीं मिला रहा है। कानपुर में नोट बंद होने की सूचना मिलने के बाद एक बुजुर्ग महिला की हार्ट अटैक से मौत हो गई। महिला के शरीर के पास नोटों के बंडल मिले हैं। कहा जा रहा है कि नोट गिनते-गिनते महिला को हार्ट अटैक आ गया है और उसकी मौत हो गई है। पुलिस के मुताबिक महिला के पास से 2 लाख 69 हजार रुपए कीमत के 500 और 1000 रुपए के नोट मिले हैं। यह घटना कानपुर के जूही थानाक्षेत्र के परमपुरवा की है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक महिला कई सालों से यहां अकेली रह रही थी।

पुलिस के मुताबिक सन्नो नाम की महिला को जब इस बात की खबर लगी है कि अब 1000 और 500 रुपए के पुराने नोट नहीं चलेंगे तो वह नोटों के बंडल को निकालकर गिनने लगी। इसी दौरान महिला को हार्ट अटैक आ गया और उसकी मौत हो गई है। पुलिस का कहना है कि महिला 20 सालों से यहां अकेली रहती थी लेकिन उसके पास से पैसे मिलने की बात फैलने के बाद उसके कई वारिस सामने आ गए हैं। हालांकि पुलिस ने पैसे को अपने कब्जे में ले लिया है। महिला शव उसके परिवार को सौंप दिया गया है। पड़ोसियों का कहना है कि महिला ने एक-एक रुपए जोड़कर दो लाख 69 हजार रुपए बुढ़ापे के लिए जमा किए थे। गौरतलब है कि मंगलवार रात 12 बजे के बाद से 500 और 1000 रुपए के नोट अमान्य करार दे दिए गए थे।

वीडियो: नोट बदलने के लिए बैंक पहुंचे राहुल गांधी, कतार में खड़े रहे; कहा- “लोगों का दर्द बांटने आया हूं”

गौरतलब है कि मोदी सरकार द्वारा बड़े नोटों को अमान्य घोषित किए जाने के बाद से लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। हाल ही में बिहार के मधेपुरा के रहने वाले मो ऐनाउल को अपनी मां के लिए कफन नसीब नहीं हुआ। वह दुकानदारों से गुहार लगाता रहा लेकिन किसी ने उसकी मदद नहीं की। दोपहर बाद इलाके की पार्षद के पति ने उन्हें पैसे दिए तब जाकर उन्होंने अपनी मां के लिए कफन खरीदा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 12, 2016 2:12 pm

सबरंग