ताज़ा खबर
 

पीडीपी सांसद ने लोकसभा को अब तक नहीं भेजा है इस्तीफा

पीडीपी के संस्थापक सदस्यों में शामिल कर्रा ने 15 सितंबर को ऐलान किया था कि उन्होंने लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा देने का फैसला किया है।
Author नई दिल्ली | September 21, 2016 06:14 am
तारिक हमीद कर्रा पूर्व सीएम मुफ्ती सईद के साथ।

श्रीनगर के सांसद के तौर पर इस्तीफा देने की घोषणा करने वाले तारिक हमीद कर्रा ने पांच दिन बाद भी इस बारे में लोकसभा सचिवालय को सूचित नहीं किया है।
लोकसभा सचिवालय के सूत्रों ने मंगलवार को यहां बताया कि कर्रा की ओर से ईमेल या पत्र के माध्यम से कोई संदेश नहीं मिला है। उन्होंने कहा कि यदि कोई लोकसभा सदस्य इस्तीफा देना चाहता है तो उसे हस्ताक्षर के साथ एक पत्र लोकसभा अध्यक्ष को भेजना होता है।  जम्मू कश्मीर में पीडीपी के संस्थापक सदस्यों में शामिल कर्रा ने 15 सितंबर को ऐलान किया था कि उन्होंने लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा देने का फैसला किया है। अगले दिन लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन के कार्यालय में अपना इस्तीफा दे देंगे। 2014 के लोकसभा चुनाव में पीडीपी के टिकट पर श्रीनगर संसदीय क्षेत्र से निर्वाचित हुए कर्रा ने श्रीनगर में कहा था कि उन्होंने केंद्र में भाजपा की कठोर नीतियों और उसके सामने अपनी पार्टी के शासन वाली राज्य सरकार के पूरी तरह समर्पण के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए पार्टी से और लोकसभा से भी इस्तीफा देने का फैसला किया है।

इस संवाददाता सम्मेलन के पांच दिन बाद भी कर्रा की ओर से त्यागपत्र नहीं सौंपे जाने पर टिप्पणी करते हुए पीडीपी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि घोषणा असंतुष्ट सदस्य की ओर से राजनीतिक तमाशा की तरह दिखाई देती है। उनकी महबूबा मुफ्ती कैबिनेट में मंत्री पद पाने की आकांक्षा पूरी नहीं हुई। पीडीपी ने कर्रा के इस्तीफे के फैसले को ‘पीछे से वार’ की संज्ञा दी थी। पार्टी ने कहा था कि इससे पार्टी पर ज्यादा असर नहीं पड़ेगा। वरिष्ठ पीडीपी नेता नईम अख्तर ने कहा, ‘उन्होंने ऐसे समय में पार्टी पर पीछे से हमला किया है जब सरकार और मुख्यमंत्री को मजबूत करने की जरूरत है।’ कर्रा के पीडीपी से और लोकसभा से इस्तीफे की घोषणा से कुछ दिन पहले ही अलगाववादी हुर्रियत ने मुख्यधारा के नेताओं से अपील की थी कि अपनी पार्टी और पद छोड़कर हिज्बुल मुजाहिदीन के बुरहान वानी के मारे जाने के खिलाफ चल रहे आंदोलन में शामिल हों।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.