May 23, 2017

ताज़ा खबर

 

पाकिस्तानी सैनिकों ने फिर तोड़ा संघर्षविराम, मोर्टार बमों-भारी मशीन गनों से भारतीय चौकियों पर हमला

पाकिस्तान ने पिछले चार दिनों में जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा के पास पांचवीं बार 2004 के संघर्ष विराम का उल्लंघन किया है।

Author जम्मू | October 1, 2016 19:37 pm
श्रीनगर के बाहरी इलाके में तैनात भारतीय सेना का एक जवान। (REUTERS/File)

पाकिस्तानी सैन्य बलों ने एक बार फिर संघर्ष विराम का उल्लंघन करते हुए जम्मू कश्मीर की अखनूर तहसील में नियंत्रण रेखा के पास मोर्टार बमों एवं भारी मशीन गनों से भारतीय चौकियों एवं असैन्य क्षेत्रों को शुक्रवार (30 सितंबर) देर रात निशाना बनाया। रक्षा सूत्रों ने कहा कि देर रात साढ़े तीन बजे शुरू होकर सुबह छह बजे तक चली गोलीबारी में जान-माल का किसी प्रकार का नुकसान नहीं हुआ है। सीमा की सुरक्षा कर रहे भारतीय बलों ने प्रभावशाली तरीके से जवाबी कार्रवाई की। सूत्रों ने कहा, ‘अखनूर तहसील के चंब इलाके एवं पल्लनवाला सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास अग्रिम चौकियों पर मोर्टार बमों, आरपीजी, भारी मशीन गनों एवं छोटे हथियारों से हमला किया गया।’

पुलिस ने बताया कि पाकिस्तानी सैन्य बलों ने बादू एवं चानू बस्तियों पर हमला किया। एक पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘नियंत्रण रेखा के पास रह रहे ग्रामीणों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है।’ उन्होंने कहा कि सीमावर्ती इलाकों में रह रहे निवासी अपने मवेशियों एवं घरों की देख रेख के लिए सीमा के पास लौट रहे थे, तभी पाकिस्तानी बलों ने उन्हें भारी हथियारों से निशाना बनाने की कोशिश की। पुलिस ने बताया कि पाकिस्तान की ओर से बादू गांव के कुछ मकानों में गोलियां लगीं।

पाकिस्तान ने पिछले चार दिनों में जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा के पास पांचवीं बार 2004 के संघर्ष विराम का उल्लंघन किया है। पाकिस्तान ने अपने कब्जे वाले कश्मीर में आतंकवादियों के ठिकानों को नष्ट करने के लिए भारतीय सेना द्वारा 29 सितंबर को लक्षित हमले किए जाने के बाद सीमा पार से गोलीबारी बढ़ी है। जम्मू के उपायुक्त सिमरनदीप सिंह ने शुक्रवार (30 सितंबर) को बताया था कि पाकिस्तान की ओर से शुक्रवार रात को छोटे हथियारों से नियंत्रण रेखा में जम्मू जिले के पल्लनवाला, चपरियाल और समनाम इलाकों में छोटे हथियारों से गोलीबारी की गयी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 1, 2016 7:37 pm

  1. No Comments.

सबरंग