ताज़ा खबर
 

कश्मीर: दो महीनों में 25 स्कूल आग के हवाले, बचाव के लिए हाईकोर्ट आया आगे

जम्मू कश्मीर में पिछले दो महीनों में 25 स्कूलों में आग लगाई जा चुकी है। इस बात के लिए अब राज्य के हाई कोर्ट को आगे आकर सरकार से उनको बचाने के लिए कहना पड़ा।
पिछले दिनों घाटी में फैली हिंसा में जलाया गया कश्मीरी स्कूल। (फाइल फोटो)

जम्मू कश्मीर में पिछले दो महीनों में 25 स्कूलों में आग लगाई जा चुकी है। इस बात के लिए अब राज्य के हाई कोर्ट को आगे आकर सरकार से उनको बचाने के लिए कहना पड़ा। रविवार को कश्मीर के कंबामार्ग हायर सेकेंड्री स्कूल को आग के हवाले कर दिया गया था। पिछले हफ्ते तीन स्कूलों में आग लगाई गई। हालांकि, किसी तरह की जनहानि नहीं हुई क्योंकि कश्मीर में लगभग पिछले चार महीनों से सभी स्कूल बंद हैं। यह सब आतंकी संगठन हिजबुल कमांडर बुरहान वानी के मारे जाने के बाद से शुरु हुआ। सरकार ने इसके लिए अलगाववादियों को निशाना बनाया। एनडीटीवी की खबर के मुताबिक, जम्मू कश्मीर के डिप्टी सीएम निर्मल सिंह ने कहा, ‘यह काफी दुर्भाग्यपूर्ण है और इसकी वजह अलगाववादी हैं। जिसमें गिलानी समेत कई लोग शामिल हैं। वे लोग ऐसे लोगों को बढ़ावा दे रहे हैं जो स्कूलों को नुकसान पहुंचाते हैं। कश्मीर के बच्चों का भविष्य अंधकार की तरफ बढ़ रहा है।’

वीडियो: जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने पूर्व विदेश मंत्री यशवंत सिन्हा के साथ की बैठक

दिल्ली में केंद्रीय मंत्री एन वेंकैया नायडू ने कहा, ‘यह पागलपन और विकृति का मेलजोल है। वर्ना कोई भी किसी स्कूल में आग लगाने के बारे में कैसे सोच सकता है। घाटी के लोगों को यह सोचना होगा कि ऐसे लोग अब सारी हदें पार कर चुके हैं। ऐसे लोगों को बॉर्डर पार के हमारे दुश्मन हर तरीके से मदद पहुंचाते हैं।’

हालांकि, इस मामले पर अलगाववादियों का कहना है कि वह खुद सोच में पड़े हुए हैं। अलगाववादी नेता यासीन मलिक ने सोमवार को कहा कि स्कूल पर हमला करने वाले लोगों को ढूंढकर सजा दी जानी चाहिए। कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के प्रमुख उमर अब्दुल्ला ने इसे वहां के बच्चों का भविष्य खराब करने की ‘गंदी चाल’ बताया। उन्होंने स्कूलों पर हमला करने वालों को उनका दुश्मन भी कहा। कोर्ट की तरफ से सरकार को स्कूल बचाने का आदेश दिया गया है। वहीं पुलिस ने अनंतनाग और कुलगाम से आठ लोगों को पकड़ा है। उन लोगों पर स्कूल जलाने का आरोप है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.