ताज़ा खबर
 

कांग्रेस नेता सैफुद्दीन सोज ने कश्मीर समस्या को लिए भारत को ठहराया जिम्मेदार

उन्होंने कहा कि कश्मीर में जो भी समस्या फैली हुई हैं उन सबको पाकिस्तान ने नहीं भारत ने ही बनाया है।
कांग्रेस नेता सैफुद्दीन सोज ने जम्‍मू कश्‍मीर से आर्म्‍ड फोर्सेज स्‍पेशल(पावर) एक्‍ट(आफ्स्‍पा) हटाने की मांग की है।

कश्मीर मुद्दे पर जाने-माने वकील राम जेठमलानी और कांग्रेस नेता सेफूद्दीन आमने-सामने दिख रहे हैं। राम जेठमलानी ने कश्मीर में हो रही सभी समस्याओं के लिए पाकिस्तान को जिम्मेदार बताया था। लेकिन कांग्रेस नेता सेफूद्दीन उनके बयान से सहमत नहीं है। सेफूद्दीन ने कहा कि वह राम जेठ मलानी के बयान से सहमत नहीं हैं। उन्होंने कहा कि कश्मीर में जो भी समस्या फैली हुई हैं उन सबको पाकिस्तान ने नहीं भारत ने ही बनाया है। दोनों ने यह बयान भारत और पाकिस्तान के संबंध सुधारने के लिए रखे गए एक कार्यक्रम में कहीं। मीडिया बात करते हुए उन्होंने भारत के पहले प्रधानमंत्री प. नेहरू और शेख अब्दुल्ला के बीच हुई बातचीत का हवाला भी दिया। वहीं मशहूर वकील राम जेठमलानी ने कहा था कि कश्मीर समस्या भारत द्वारा उत्पन्न नहीं की गई बल्कि ये पाकिस्तान द्वारा पैदा की गई है।कश्मीर पर भारत की रुख को ही समस्या के लिए जिम्मेदार ठहराया।

पिछले कुछ समय में कश्मीर में स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है। हाल ही में हुए श्रीनगर लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव में सिर्फ 7 प्रतिशत मतदान हुआ है। वहीं मतदान के दौरान हिंसा में आठ लोगों की मौत हो गई। जिसके बाद चुनाव आयोग ने फैसला लिया है कि जम्मू कश्मीर की श्रीनगर संसदीय सीट की 38 बूथों पर 13 अप्रैल को फिर से वोट डाले जाएंगे। चुनाव आयोग ने इसका ऐलान कर दिया गया है। अब वहां उस दिन सुबह सात बजे से शाम चार बजे तक वोटिंग होगी। कुल 38 पोलिंग बूथों पर रिवोटिंग होनी है। रविवार को इस सीट पर मात्रा 6.5 फीसदी मतदान हुआ था। 50 से ज्यादा मतदान केन्द्रों पर भारी हिंसा की भी खबरें आई थीं। इसके बाद आयोग ने 38 बूथों पर चुनाव रद्द कर दिया था। इससे अलग पूर्व मुख्यमंत्री फारुक अब्दुल्ला टीवी पर कश्मीर के भारत के हाथों से निकलने की बात कर चुके हैं। वहीं पी चिदंबरम भी कुछ दिनों पहले इसी तरह की बात कर चुके हैं। अब कांग्रेस नेता ने इस तरह का बयान देकर इस मुद्दे को और हवा दे दी है।

अरविंद केजरीवाल के खिलाफ जारी हुआ जमानती वारंट; पीएम मोदी की शैक्षणिक योग्यता पर की थी टिप्पणी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.