ताज़ा खबर
 

जम्मू कश्मीर में पहली बार संघ की अखिल भारतीय बैठक

बैठक में हिस्सा लेने के लिए संघ प्रमुख डॉ. मोहन भागवत पहले ही जम्मू पहुंच गए हैं।
Author नई दिल्ल | July 17, 2017 17:36 pm
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत। (फाइल फोटो)

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय बैठक पहली बार जम्मू कश्मीर में आयोजित हो रही है जिसमें देश के समक्ष प्रमुख चुनौतियों पर चिंतन और विचार विमर्श के साथ ही आने वाले समय में संगठन के कार्यों का लेखाजोखा तैयार किया जाएगा। जम्मू कश्मीर में अमरनाथ यात्रा पर आतंकवादी हमले के बीच ऐसा माना जा रहा है कि संघ की राष्ट्रीय बैठक में आतंकवाद, आंतरिक सुरक्षा और कश्मीर के हालात पर चर्चा होगी। इस बारे में पूछे जाने पर संघ के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा कि 16 और 17 जुलाई को संघ के क्षेत्रीय प्रचारकों की बैठक में विभिन्न विषयों पर चर्चा हो रही है। इस दौरान संघ की ओर से अगस्त 2016 से जुलाई 2017 के बीच शुरू की गई विभिन्न पहल की प्रगति की समीक्षा भी की जा रही है।
उन्होंने कहा कि संघ की अखिल भारतीय बैठक 18 जुलाई से शुरू होगी और 20 जुलाई तक 200 से अधिक प्रांत प्रचारक जम्मू कश्मीर, चीन समेत राष्ट्र के समक्ष उत्पन्न विभिन्न विषयों पर चर्चा करेंगे। इसके अगले दिन विभिन्न प्रस्तावों को मंजूरी दी जाएगी।

बैठक में हिस्सा लेने के लिए संघ प्रमुख डॉ. मोहन भागवत पहले ही जम्मू पहुंच गए हैं। उन्होंने नवनिर्मितप्रांत संघ कार्यालय का उद्घाटन किया। संघ के सर कार्यवाह भैया जी जोशी, सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले, सुरेश सोनी, डॉ. कृष्ण गोपाल व अन्य वरिष्ठ पदाधिकारी भी जम्मू पहुंच गए हैं। क्षेत्रीय प्रचारकों के साथ संगठन के वरिष्ठ पदाधिकारियों ने विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की। 18 जुलाई से राष्ट्रीय बैठक में सभी राज्यों के प्रांत प्रचारक, सह प्रांत प्रचारक, क्षेत्रीय प्रचारक व अखिल भारतीय कार्यकारिणी के सदस्य उपस्थित रहेंगे। जम्मू-कश्मीर में पहली बार हो रही राष्ट्रीय बैठक में संघ के करीब 200 पदाधिकारी हिस्सा लेंगे। संघ के पदाधिकारियों का कहना है कि इस बैठक में कुछ भी अस्वाभाविक नहीं है बल्कि ऐसी बैठक पहले भी होती रही है। हालांकि, जम्मू कश्मीर में इस बैठक के आयोजन को काफी महत्त्वपूर्ण माना जा रहा है क्योंकि संघ पहली बार जम्मू कश्मीर में ऐसी बैठक का आयोजन कर रहा है। जम्मू कश्मीर में यह बैठक ऐसे समय में हो रही है जब घाटी में हिंसा में वृद्धि हुई है और चीन के साथ गतिरोध जारी है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग