ताज़ा खबर
 

शहीद की बेटी ने बताए पिता के आखिरी शब्द, बोली- पापा ने कहा था मुझे कुछ होता है तो मजबूत रहना

गुरुवार को पाकिस्तान की ओर से आरएस पुरा सेक्टर में किए गए सीजफायर उल्लंघन में जितेंद्र सिंह शहीद हो गए थे।
पिता के शहीद होने की खबर सुनकर रोती बीएसएफ जवान जितेंद्र सिंह की बेटी। (Photo: ANI)

बीएसएफ जवान जितेंद्र सिंह का परिवार अभी तक सदमे में है। परिवार वाले अभी तक भरोसा नहीं कर पा रहे कि उन्होंने जितेंद्र को खो दिया है। गुरुवार को पाकिस्तान की ओर से आरएस पुरा सेक्टर में किए गए सीजफायर उल्लंघन में जितेंद्र सिंह शहीद हो गए थे। जितेंद्र के परिवार वालों को जब फोन पर उनके शदीद होने की सूचना दी गई तो पूरे परिवार में खलबली मच गई। जम्मू में उन्हें राष्ट्रीय समान के साथ सलामी देने बाद शुक्रवार सुबह विमान द्वारा शव दिल्ली पहुंचेगा। दिल्ली से शाम चार बजे विमान द्वारा 6 बजे पटना पहुंचेगा, फिर पटना से शव को उनके पैतृक गांव ले जाया जाएगा।

पिता की कही बातों को याद करके जीतेंद्र सिंह की बेटी ने बताया कि उन्होंने हमेशा उसे मजबूत बनने की सलाह दी थी। बेटी ने बताया, ‘एक हफ्ते पहले मेरी उनसे फोन पर बात हुई थी। उन्होंने कहा था कि अगर उन्हें कुछ हो जाए तो धैर्य मत खोना और मजबूत बनी रहना।” जितेंद्र सिंह की 1993 में बीएसएफ की नौकरी लगी थी। उनके तीन बच्चे हैं। बड़ी बेटी अर्चना 15 वर्ष की, दूसरी बेटी प्रीति 13 साल की और बेटा रोहित 10 साल का है।

वीडियो: पाकिस्तान ने एक बार फिर किया सीज़फायर का उल्लंघन; 1 जवान शहीद, 6 नागरिक घायल

Read Also: राजस्थान से पकड़ा गया तीसरा पाकिस्तानी जासूस शोएब, पूछताछ के लिए लाया गया दिल्ली

पाक सेना ने कश्‍मीर के अब्‍दुल्लियां क्षेत्र में सीजफायर का उल्‍लंघन कर फायरिंग की थी। इसमें बीएसएफ के हेड कांस्‍टेबल जीतेंद्र कुमार घायल हो गए थे, बाद में उन्होंने दम तोड़ दिया। इनके साथ ही गोलीबारी में 6 स्‍थानीय लोग भी घायल हो गए थे। गत 18 सितंबर को उरी आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में भारतीय सेना के लक्षित हमलों के बाद से पाकिस्तान की ओर से संघर्ष-विराम उल्लंघन के 42 मामले सामने आये हैं। बता दें, भारतीय सेना ने 29 सितंबर को एलओसी पारकर पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक किया था।

Read Also: पाकिस्तान में सलमान खान पर लगा बैन, टीवी पर नहीं दिखाए जा रहे भारतीय चैनल

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.