ताज़ा खबर
 

रेप किया तो पंचायत ने सजा दी- लड़की का पेशाब पीयो, फ़ज़ल हुसैन ने दे दी जान

स्टेशन ऑफिसर मोहम्मद जहांगीर ने बताया कि हुसैन को कुछ बुजुर्गों ने लड़की के परिवार को पैसे देने या फिर उसका पेशाब पीने को कहा था।
इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

जम्मू-कश्मीर के रजौरी जिले में एक शख्स ने कथित तौर पर पंचायत के फैसले के बाद आत्महत्या कर ली। फजल हुसैन पर एक लड़की के साथ रेप का आरोप था। इस मामले में पंचायत ने उसे कथित तौर पर लड़की का पेशाब पीने की सजा सुनाई और इसी बात से परेशान होकर उसने आत्महत्या कर ली। बीते रविवार (30 जुलाई) को हुसैन का शव पीर पिंजल रेंज में समसर झील से बरामद किया गया। स्टेशन ऑफिसर मोहम्मद जहांगीर ने बताया कि हुसैन को कुछ बुजुर्गों ने लड़की के परिवार को पैसे देने या फिर उसका पेशाब पीने को कहा था। सजा तय करने में दो मुफ्ती भी शामिल थे। हुसैन ग्रेजुएट था और शादीशुदा भी था।

जहांगीर ने आगे कहा, “हमने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।” पुलिस के मुताबिक हुसैन का शव बरामद करने के बाद उसकी पहचान चप्पलों के जरिए की गई जो उसने झील में कूदने से पहले किनारे पर छोड़ दिए थे। अभी तक इस मामले में कोई गिरफ्तारी नहीं की गई है। वहीं बताया जा रहा है कि हुसैन ने आत्महत्या करने से पहले कथित रूप से एक वीडियो अपने मोबाइल के जरिए शूट किया था। इस वीडियो में हुसैन ने फैसले को गलत बताया है और कई बातें कही है। वीडियो में हुसैन ने कहा, “लोगों ने अपने घरों की चारदीवारी में ही कोर्ट बना लिए हैं। यह लोग खुद ही तय कर लेते हैं कि क्या सही है और क्या गलत। मुझ पर लगे इल्जाम सही थे या गलत यह एक एक ऐसी कोर्ट में तय किए गए जो चारदीवारी के अंदर बना था!”

वीडियो में हुसैन ने यह दावा भी किया था कि उसने लड़की का मेडिकल टेस्ट कराने को कहा लेकिन उसकी बात नहीं सुनी गई। हुसैन ने वीडियो में आगे कहा, “इस्लाम का मतलब होता है इंसाफ। यह कैसा इंसाफ है जो एक मुसलमान को पेशाब पीने के लिए मजबूर करता है।” हुसैन के मुताबिक, उसने मामले को लेकर इलाके के लोकल इमाम से दखल देकर उससे मदद की गुहार भी लगाई थी लेकिन उन्होंने मदद करने से इंकार कर दिया।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग